स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

UP के इस शहर में बनेगा देश का दूसरा सबसे बड़ा Heliport, खासियत ऐसी कि आप भी कहेंगे 'वाह’

Rahul Chauhan

Publish: Oct 19, 2019 15:09 PM | Updated: Oct 19, 2019 15:14 PM

Noida

Highlights:

-Noida Authority के मास्टर प्लान 2031 में शामिल इस Project को बोर्ड बैठक में मंजूरी दे दी गई है

-इसे PPP Model पर तैयार किया जाएगा

-Heliport बनाने के लिए सेक्टर-151ए में 10 एकड़ भूमि चिह्नित की गई है

नोएडा। उत्तर प्रदेश का शो विंडो कहे जाने वाले नोएडा शहर में देश का दूसरा सबसे बड़ा हेलीपोर्ट (Largest Heliport) बनने जा रहा है। नोएडा प्राधिकरण (Noida authority) के मास्टर प्लान 2031 में शामिल इस प्रोजेक्ट (Project) को बोर्ड बैठक में मंजूरी दे दी गई है। इसे पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिपर मॉडल (PPP Model) पर तैयार किया जाएगा और जल्द ही इसकी सलाहकार कंपनी का चयन किया जाएगा। हेलीपोर्ट बनाने के लिए सेक्टर-151ए में 10 एकड़ भूमि चिह्नित की गई है। जिसपर हेलीकॉप्टर (Helicopter) उतरने के लिए आठ हेलीपेड (Helipad) बनाए जाएंगे।

यह भी पढ़ें : जानिए, सुप्रीम कोर्ट ने क्यों कहा, 'उत्तर प्रदेश सरकार से हम तंग आ चुके हैं, ऐसा लगता है यूपी में जंगलराज है'

जानकारी के लिए बता दें कि वर्तमान में देश में हेलीकॉप्टर की सेवाएं प्रदान करने वाली चार एजेंसियां हैं। इनमें पवन हंस व एसआईटीसी के अलावा दो अन्य शामिल हैं। पवन हंस का ऑफिस भी नोएडा ही है। पहले चरण में इस प्रोजेक्ट की डिटेल्ड प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार हो रही है। जिसे क्लीयरेंस के लिए आइआइटी भेजा जाएगा। वहां से संस्तुति मिलने पर राज्य सरकार से इसके लिए मंजूरी ली जाएगी।

यह भी पढ़ें: महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने फूट-फूटकर रोने वाले सपा नेता पर केस दर्ज, सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था वीडियो

गौरतलब है कि नोएडा में हेलीपोर्ट सेवा शुरू होने के बाद शहर की देश के किसी भी कोने से सीधी कनेक्टिविटी हो जाएगी। इसके साथ ही जेवर में बन रहे इंटरनेशनल एयरपोर्ट से भी लोगों को काफी फायदा होगा। इसके अलावा इस हेलीपोर्ट से लोग किसी भी समारोह के लिए भी हेलीकॉप्टर बुक कर सकेंगे। इसका प्रयोग सरकारी (वीवीआईपी) कार्यक्रमों के लिए भी किया जाएगा। इस बाबत जानकारी देते हुए नोएडा प्राधिकरण के नियोजन विभाग के महाप्रबंधक एससी गौड़ ने बताया कि प्राधिकरण द्वारा हेलीपोर्ट बनाने का फैसला किया गया है। इसकी डीपीआर तैयार की जा रही है। इसके पीपीपी मॉडल पर तैयार किया जाएगा।