स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

हार्ट अटैक से मरीज की मौत के बाद गुस्साए परिजनों ने ईएसआई अस्पताल का कर दिया ऐसा हाल

Iftekhar Ahmed

Publish: Aug 19, 2019 19:52 PM | Updated: Aug 19, 2019 19:52 PM

Noida

  • इमरजेंसी वार्ड में की गई तोड़-फोड़
  • डॉक्टरों को पीटा, एक डॉक्टर का हाथ टूटा

नोएडा. सेक्टर 24 स्थित ईएसआई हॉस्पिटल में हार्ट अटैक से हुई मौत के बाद लाए गए व्यक्ति को जब डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। तो उसके बाद मृतक के परिजनों ने जमकर उत्पात मचाया और इमरजेंसी में तोड़फोड़ की। इसके साथ ही डॉक्टरों को पीटा। इस दौरान एक डॉक्टर का हाथ टूट गया। इसके बाद वहां तीमारदारी के लिए पहुंचे कुछ लोगों ने उत्पात मचा रहे परिजनों पर काबू पाया।

घटना की सूचना मिलने पर पुलिस भी मौके पर पहुंची और घायल डॉक्टरों का मेडिकल कराया। डॉक्टरों की तरफ से दी गई तहरीर पर एफआईआर दर्ज कर ली गई है। लेकिन, इस सारे घटनाक्रम के बाद डॉक्टर स्ट्राइक पर चले गए हैं, जिससे मरीजों का इलाज नहीं किया जा रहा है। जिसके कारण वहां मरीज को लेकर आने वाले लोग बेहद परेशान हैं। डॉक्टरों की मांग है दोषियो पर उचित कार्रवाई हो और सजा मिले।


बिखरी दवाइया फटी हुई फ़ाइल और टूटी हुई मशीनें, ईएसआई हॉस्पिटल के इमरजेंसी की ये दशा मृतक के परिजनों ने बनाई है। इमरजेंसी में तैनात डॉक्टरों के अनुसार जब पेशेंट को हॉस्पिटल में लाया गया था । उस समय उसकी बहुत बुरी दशा थी। डॉक्टरों का कहना है कि उसका न तो हार्ट काम कर रहा था और न ही पल्स ही चल रहा था। जब परिजनों से पूछा गया कि क्या हुआ है, तो उन्होंने बताया कि इन्हें दौरा पड़ा है।

डॉक्टरों ने अपनी तरफ से मरीज को रिवाइव करने कोशिश की, लेकिन उसकी रिकवरी नहीं हो पाई। इसके बाद डॉक्टरों ने मरीज को मृत घोषित कर दिया। इसके बाद हस्पताल में आधा दर्जन से ज्यादा महिलाएं और पुरुष इमरजेंसी में घुस आए और उन्होंने वहां तोड़फोड़ करना शुरू कर दिया। जब डॉक्टरों ने उन्हें समझाने की कोशिश की तो उन्होंने डॉक्टरों पर ही हमला बोल दिया। उन्होंने सीएमओ विभा, डॉक्टर मंजूर अहमद और एक अन्य डॉक्टर के साथ मारपीट की। जिसमें डॉक्टर मंजूर अहमद का हाथ टूट गया। अस्पताल में मौजूद अन्य तीमारदारों ने इन लोगों पर काबू पाया। इसकी सूचना पुलिस को दी गई। इसके बाद पुलिस ने मौके पर पहुंचकर परिजनों को समझा-बुझाकर शांत कराया। डॉक्टरों की तहरीर पर एफआईआर दर्ज कर ली गई है।

सारे घटनाक्रम के बाद ईएसआई हॉस्पिटल के डॉक्टर हड़ताल पर चले गए हैं। उनका कहना है कि हम मरीजों की जान बचाने के लिए प्रयास करते हैं और हमारे साथ ही ऐसा व्यवहार होता है, जो हमें बर्दाश्त नहीं है। उनकी मांग है कि दोषियों पर कार्रवाई हो, जिससे कि आगे कोई इस प्रकार डॉक्टर पर हाथ न उठा सके। डॉक्टर स्ट्राइक पर चले जाने से बीमार मरीजों का इलाज नहीं हो पा रहा है, जिसके कारण वहां आने वाले लोग बेहद परेशान है।