स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Reality Check: फिल्म सिटी में 3000 फीट नीचे है बजरंग बलि के गदे का मनका, जानिए क्या है सच्चाई

Nitin Sharma

Publish: Oct 20, 2019 16:15 PM | Updated: Oct 20, 2019 16:15 PM

Noida

Highlights

  • अचानक ट्वीटर पर ट्रेड करने लगी यह खबर
  • सोशल मीडिया पर भी जमकर हुई वायरल
  • साइबर एक्सपर्ट ने बताई यह वजह

नोएडा। तीन दिन पूर्व 17 अक्टूबर यानि गुरुवार को को अचानक ट्व‍िटर (Tweet) पर #NoidaFilmCityExcavation ट्रेंड करने लगा। इसके बाद इसको लेकर सोशल मीडिया पर भी चर्चा होने लगी। इसमें कई लोगों ने तरह-तरह के कमेंट्स किए। दरअसल Rofl Gandhi 2.0 के ट्वि‍टर अकाउंट से यह ट्वीट किया गया कि हनुमान जी ((Hanuman Ji)) के गदे का एक मनका नीचे गिर गया था। वहां पर भव्य बजरंगी मंदिर बनवाया गया था। उस मंदिर की लोकेशन नोएडा (Noida) के सेक्टर 16 A फिल्म सिटी (Film City) बताई गई है। इस ट्वीट के बाद कई लोगों ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया दी। वही इस इस संबंध में साइबर एक्सपट्र्स (Cyber Expert) ने बताई इसकी सच्चाई।

दिवाली के त्योहार को लेकर घर के अंदर की जारी थी ऐसी तैयारी, भारी मात्रा में मिला 'बारूद' - देखें वीडियो

rofl.jpg

इस ट्वीटर अकाउंट से किया गया ट्वीट

बता दें कि Rofl Gandhi 2.0 नाम से बने ट्वि‍टर अकाउंट के 397.3 हजार फॉलोअर्स हैं। इस अकाउंट से 17 अक्‍टूबर को ट्वीट किया गया। इसमें रोहतक यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर बलवान दहिया हिंदू अध्यात्म के रिसर्चर हैं। उनके अनुसार, जब हनुमानजी संजीवनी लेकर लौट रहे थे तो उनके गदे पर लगा एक मनका नीचे गिर गया था। नौवीं सदी में वो मनका एक गरीब कृपाराम को मिला। इससे उसकी किस्‍मत बदल गई थी। उसकी पत्नी भामादेवी ने मनके को मंदिर में स्थापना करने की सलाह दी। कृपाराम ने भव्य बजरंगी मंदिर बनवाकर मनका स्थापित कर दिया। मंदिर के आस-पास शहर बस गया। शहर इतना खुशहाल था कि सोने की ईंटों के फर्श लगे थे। शहर का नाम था नवोदय। फिर 11वीं शताब्दी में नवोदय नगरी के राजा अजेयनाथ और टीपू खान के बीच भयंकर जंग हुई। इससे पहले की टीपू नवोदय नगर को लूट पाता कुलदेवी महामाया ने शहर को पाताल में छुपा दिया।

दिवाली के त्योहार पर ले रहे हैं मिठाई तो जरूर पढ़ें यह खबर- देखें वीडियो

अचानक ट्रेड में लाने की यह है सच्चाई

साइबर एक्सपर्ट अनूज अग्रवाल ने बताया कि जो लोग प्रोफेशनल ट्रेडिंग का काम करते है। वह हजारों फेंक अकाउंट को अपने पास रखते हैं। वह कुछ (Fake News) को ट्रेडिंग में लाने के लिए पहले हजारों फर्जी अकाउंट से उसे ट्वीट कराते हैं। इसके बाद दूसरे अकाउंटों से उसे रिट्वीट कराते है। ऐसे में लगता है कि इसमें हजारों लोग इसे पढ़ने या देखने के इच्छुक है। जिसे लेकर यह चीजें ट्रेड में आ जाती है। फिल्म सिटी में मंदिर और मनका गिरने की कहानी आज तक हमने नहीं सुनी। कई बार कुछ प्रोफेशनल किसी का भी फर्जी नाम का इस्तेमाल कर चीजों को चला देेते है। इनमें कोई सच्चाई नहीं होती।