स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नोएडा में टूटी मिली सड़क तो इस तेजतर्रार आईएएस ने दो इंजीनियरों समेत सात को नौकरी से निकाला

sharad asthana

Publish: Aug 19, 2019 09:29 AM | Updated: Aug 19, 2019 09:32 AM

Noida

खास बातें-

  • औचक निरीक्षण पर निकलीं नोएडा प्राधिकरण की सीईओ को मिलीं कई खामियां
  • अतिक्रमण, टूटी सड़क और फैला हुआ कूड़ा देखकर हुईं नाराज
  • सर्किल-4 के प्रभारी प्रबंधक और सफाई सुपरवाइजर को किया सस्‍पेंड

नोएडा। उत्‍तर प्रदेश के हाईटेक शहर के रास्‍तों को देखकर आईएएस रितु माहेश्‍वरी नाराज हो गईं। इसके बाद उन्‍होंने सात कर्मचारियों की सेवाएं समाप्त करने और एक प्रभारी प्रबंधक व सुपरवाइजर को निलंबित करने का आदेश दिया। ये खामियां नोएडा प्राधिकरण की सीईओ रितु माहेश्वरी को शहर के विभिन्न सेक्टरों के बाहरी और भीतरी मार्गों के औचक निरीक्षण के दौरान मिलीं। इस बीच भारी अव्यवस्था को देखकर सीईओ रितु माहेश्वरी नाराज हो गईं।

रजत विहार सेक्टर-62 के सामने टूटी मिली सड़क

प्राधिकरण की सीईओ रितु माहेश्वरी ने रविवार को औचक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्‍होंने कई जगह खामियां मिलीं। उनको सेक्टर-55 व 57 के बीच की सड़क की सर्विस रोड पर अतिक्रमण, इलेक्ट्राॅनिक सिटी सेक्टर-63 के बाहर अतिक्रमण, रजत विहार सेक्टर-62 के सामने टूटी सड़क, सेक्टर-62 के स्टेलर के सामने भरा पानी और इन क्षेत्रों में जगह-जगह कूड़ा फैला हुआ दिखा। इसको लेकर वह बेहद नाराज हो गईं।

यह भी पढ़ें: पत्नी व बेटियों के साथ तांत्रिक कर रहा था ऐसा काम, पति के पहुंचने फिर जो हुआ

इनके खिलाफ हुई कार्रवाई

उन्‍होंने तुरंत कार्रवाई करते हुए वर्क सर्किल-4 के प्रभारी प्रबंधक मुकेश कुमार और सफाई सुपरवाइजर मोमराज को निलंबित कर दिया। इसके अलावा वर्क सर्किल-5 के सहायक प्रबंधक स्वदेश रंजन, वर्क सर्किल-4 के सहायक प्रबंधक अरविंद कुमार को प्रतिकूल प्रविष्टि देने का आदेश दिया। साथ ही उन्‍होंने अवर अभियंता अंकुर और अवर अभियंता हरिओम सिंह की सेवाएं समाप्त कर दीं।

यह भी पढ़ें: TikTok वीडियो बनाने के लिए हाईवे पर युवकों किया ऐसा जानलेवा स्टंट, देखने वालों के छूटे पसीने, देखें Video

फर्म को जारी किया कारण बताओ नोटिस

उन्होंने वर्क सर्किल-4 व 5 के दो सुपरवाइजर, वर्क सर्किल-4 के एक केयर टेकर और जन स्वास्थ्य विभाग के दो सफाई सुपरवाइजरों की सेवाएं समाप्त करने का आदेश दिया। इसके अलावा सीईओ ने सेक्टर-55-57, सेक्टर-62, एनएच-24 से सेक्टर-71 तक की सड़क पर मैकेनिकल स्वीपिंग का कार्य करने वाली फर्म मेसर्स एमएसडब्ल्यू चेन्नई को कारण बताओ नोटिस जारी किया। नोटिस में कहा गया है कि क्यों न फर्म संविदाकार का अनुबंध निरस्त कर दिया जाए। उन्होंने जनस्वास्थ्य विभाग के प्रभारी को इस फर्म पर आर्थिक दंड लगाने का आदेश दिया।

UP News से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Uttar Pradesh Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर