स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

हैदराबाद रेप के बाद पुलिसकर्मी की बहन बैठी धरने पर बताया खुद को असुरक्षित- देखें वीडियाे

Nitin Sharma

Publish: Dec 04, 2019 14:30 PM | Updated: Dec 04, 2019 14:30 PM

Noida

Highlights

  • इंटरनेशनल कंपनी में डायरेक्टर के पद पर तैनात है युवती
  • पिता भी यूपी पुलिस में रहे हैं तैनात
  • युवती ने हैदराबाद रेप पर की ऐसा कानून बनाने की मांग

नोएडा। हैदराबाद में हुई महिला डॉक्टर की रेप के बाद निर्मम हत्या से पूरा देश आहत और गुस्से में है। लोग अलग-अलग तरीके से अपने गुस्से का इजहार कर रहे हैं, तो वही नोएडा के सेक्टर 18 में जीआईपी कट के पास मेरठ निवासी दीक्षा गौड़ अकेले ही हैदराबाद में हुई घटना के विरोध में धरने पर बैठ गई हैं । यूपी पुलिस में तैनात भाई की बहन-बेटी दीक्षा की शासन और प्रशासन से मांग है कि दोषियों को सजा देने के लिए सरकार नया और सशक्त कानून लाये। जिससे इस तरह की घटनाएं रोकी जा सके। दीक्षा का कहना है कि वह खुद एक पुलिसकर्मी की बेटी है, लेकिन फिर भी वह खुद को सुरक्षित महसूस नहीं करती। उसने सरकार केंद्र सरकार से मांग है कि अगर वह हमें सुरक्षा नहीं दे सकती हैं तो हमें जन्म देने से पहले ही क्यों नहीं मार दिया जाये।

संदिग्ध परिस्थितियों में बुजुर्ग महिला का घर में पड़ा मिला शव, देखते ही बेटों ने उठा लिया यह कदम- देखें वीडियो

इंटरनेशनल कंपनी में डायरेक्टर के पद पर तैनात है दीक्षा

अकेली धरने पर बैठी दीक्षा गौड़ मेरठ की रहने वाली है। दीक्षा के पिता यूपी पुलिस में तैनात है। जबकि वह दिल्ली की मयूर विहार में स्थित बीआरएम इंटरनेशनल कंपनी में डवलेपमेंट एक्सक्यूटिव डायरेक्टर के पद पर तैनात है। दीक्षा गौड़ का कहना है कि देश में न जाने कितने हर रोज रेप और बालात्कर जैसी घटनाएं हो रही है, लेकिन सरकार कोई ठोस कदम नहीं उठा रही है। जिसके कारण लड़कियां खुद को असुरक्षित महसूस कर रही है।

 

[MORE_ADVERTISE1]
[MORE_ADVERTISE2]

पिता और भाई यूपी पुलिस में तैनात

दीक्षा का भाई शाहजहांपुर यूपी पुलिस विभाग में तैनात है। जबकि पिता भी पुलिस विभाग में तैनात थे। उनकी किसी कारण मौत हो गई। हैदराबाद में हुई घटना से दीक्षा अपने आपको बहुत आहत और असुरक्षित महसूस कर रही है। वह कहती है कि मैं खुद एक पुलिस वाले कि बेटी होने के बावजूद खुद को सुरक्षित महसूस नहीं कर रही हूं। धरने कि सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारियों ने युवती को समझा बुझाकर धरने से उठा ले गई है।

[MORE_ADVERTISE3]