स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

केंद्रीय मंत्री से मिलने हजारों किसान निकले दिल्ली की ओर, बॉर्डर पर पुलिस तैनात

Virendra Kumar Sharma

Publish: Sep 21, 2019 09:31 AM | Updated: Sep 21, 2019 09:32 AM

Noida

Highlights

. एक बार फिर हो सकता है टकराव
. विभिन्न मांगों को लेकर केंद्रीय कृषि मंत्री को सौंपेंगे ज्ञापन
. सुरक्षा को देखते हुए दिल्ली यूपी बॉर्डर पर भारी पुलिस बल किया तैनात

नोएडा. भारतीय किसान संगठन के हजारों सदस्य अपनी मांगों को लेकर दिल्ली की ओर कूच कर रहे हैं। हजारों की संख्या में किसान दिल्ली यूपी बॉर्डर पर पहुंच चुके है। ये दिल्ली गेट से केंद्रीय मंत्री से मिलने के लिए कूच करेंगे। संगठन के नेेताओं का कहना है कि उनकी मांग पूरी नहीं की जा रही है। किसान अपनी मांगों को लेकर अड़िग है। किसानों की पदयात्रा के मद्देनजर नोएडा का प्रशासन सतर्क है। शनिवार को दिल्ली के लोगों को जाम से जूझना पड़ सकता है। किसान फिलहाल सेक्टर-69 स्थित ट्रांसपोर्ट नगर में रुके हैं।

किसानों की अधिकार पदयात्रा की शुरुआत 11 सितंबर को सहारनपुर से हुई। हजारों की संख्या में किसान ट्रैक्टर-ट्रॉलियों और अपने वाहनों से चल रहे हैं। उनके साथ पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सभी जिलों के अलावा पूर्वी उत्तर प्रदेश से भी किसान शामिल हैं। इसके अलावा तीन राज्यों के प्रतिनिधि भी उनके साथ हैं। काफी किसान सीधा दिल्ली पहुंच गए हैं। वह भी दलबल के साथ शनिवार की सुबह दिल्ली के लिए कूच करेंगे।

भारतीय किसान संठगन के प्रदेश उपाध्यक्ष दीपक सोम का कहना है कि किसान अपने अधिकार मांग रहे हैं। उन्होंने कहा कि चुनाव में नेता आए और किसानों का कर्ज माफ करने का वादा करके चले गए। नेता जीत तो गए, लेकिन किए गए अपने वादे भूल गए। किसानों को सस्ती बिजली देने की बात की गई थी, लेकिन सरकार बनने के बाद बिजली के दाम में बेतहाशा इजाफा कर दिया गया। उनकी मांग है कि किसानों का कर्ज माफ हो, बिजली मुफ्त मिले, किसानों के बच्चों को शिक्षा मुफ्त मिले। इसके अलावा सभी सदनों के सदस्यों (सांसदों और विधायक) की पेंशन बंद हो और किसानों की जमीनों पर लगी रजिस्ट्री की रोक हटाई जाए।

दीपक सोम ने बताया कि उनका संगठन 6 राज्यों में है। फिलहाल उन्होंने बताया कि दिल्ली में कृषि मंत्री को ज्ञापन सौंपकर अपनी पद यात्रा और धरने को समाप्त करेंगे।