स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

VIDEO: जिम्मेदार महकमों की लापरवाही का शिकार बन रहे मवेशी, आदमखोर कुत्ते नोच-नोचकर खा रहे गाय और भेड़-बकरी

Rahul Chauhan

Publish: Sep 20, 2019 17:56 PM | Updated: Sep 20, 2019 17:57 PM

Noida

Highlights:

-योगी सरकार के सख्त निर्देशों के बाद भी गौशालाओं में बंद आवारा पशुओं की हालत बद से बदतर हैं

-ताजा मामला नोएडा के सेक्टर-135 स्थित बाजिदपुर गांव के डूब क्षेत्र में बने गौवंश आश्रय स्थल का है

-जहां लापरवाही के चलते पशुओं की मौत तो हो ही रही है। साथ ही उनके शवों को कु्त्ते नोच-नोचकर खा रहे हैं

नोएडा। जिम्मेदार महकमों के सरकारी अधिकारियों की लापरवाही का खामियाजा मूक मवेशियों को भुगतना पड़ रहा है। यही कारण है कि सूबे की योगी सरकार के सख्त निर्देशों के बाद भी गौशालाओं में बंद आवारा पशुओं की हालत बद से बदतर है। ताजा मामला नोएडा के सेक्टर-135 स्थित बाजिदपुर गांव के डूब क्षेत्र में बने गौवंश आश्रय स्थल का है। जहां लापरवाही के चलते पशुओं की मौत तो हो ही रही है। साथ ही उनके शवों को कु्त्ते नोच-नोचकर खा रहे हैं।

यह भी पढ़ें : जानिए, क्या है Howdy Modi, इससे ही गढ़ी जाएगी दुनिया के सबसे बड़े नेता की छवि

वहीं जब इसकी सूचना मिलने पर ग्रामीणों ने मौके पर पहुंचकर आपत्ति जताते हुए दादरी विधायक तेजपाल नागर और एसडीएम सदर को इस गंभीर स्थिति के अवगत कराया। जिसका संज्ञान लेते हुए विधायक नागर ने एसडीएम को समस्या का समाधान करने को कहा। जिस पर कार्रवाई करते हुए एसडीएम ने पशु चिकित्सक मौके पर भेजे। जिन्होंने मृत पशुओं को पोस्टमार्टम के लिए भेजा तो वहीं बीमार पशुओं का इलाज किया गया।

यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश के इन जिलों में सबसे पहले लागू होगा जनसंख्या नियंत्रण कानून, तैयारी शुरू!

ग्रामीण अशोक चौहान ने जानकारी देते हुए बताया कि इस गौशाला में करीब 700 पुश रहते हैं। आए दिन यहां पशुओं की मौत हो रही है। जिससे अधिकारियों की लापरवाही उजागर होती है। वहीं गौशाला में मृत पशुओं को दफनाने की कोई व्यवस्था प्रशासन द्वारा नहीं की गई है। साथ ही गौशाला के चारों और दीवार नहीं होने के कारण आदमखोर कुत्ते यहां बंद गाय, भेड़, बकरियों को अपना शिकार बना रहे हैं। इस दौरान बुद्ध राज चौहान, देवेंद्र, प्रेम चौहान, भूपेंद्र चौहान, टीटू, भूषण सिंह, श्रीपाल सैनी आदि ने गौशाला में पहुंकर प्रशासन से जल्द कोई सख्त कदम उठाने की मांग की।