स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Ayodhya Verdict: सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले पर बाबा रामदेव ने दिया बड़ा बयान, देखें वीडियो

Rahul Chauhan

Publish: Nov 09, 2019 13:57 PM | Updated: Nov 09, 2019 13:59 PM

Noida

Highlights:

-Supreme Court ने शनिवार को Ayodhya मामले में अपना फैसला सुना दिया है

-देशभर में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है और लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की जा रही है

-इस सबके बीच योग गुरू Baba Ramdev का भी बयान आया है

नोएडा। अयोध्या मामले (Ayodhya Verdict) में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने शनिवार को अपना फैसला सुना दिया है। इसके साथ ही देशभर में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है और लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की जा रही है। इस सबके बीच योग गुरू बाबा रामदेव (Baba Ramdev) का भी बयान सामने आया है। दरअसल, नोएडा में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे बाबा रामदेव ने कहा कि राम मंदिर (Ram Mandir) पर संविधान के तहत सर्वोच्च न्यायालय का जो फैसला आया है उसका सभी को सम्मान करना है। क्योंकि देश संविधान से चलता है और संविधान में न्याय की सर्वोच्च संस्था उच्चतम न्यायालय है। उसके निर्णय का सम्मान करना देश का सम्मान है।

यह भी पढ़ें : अयोध्या फैसले के बाद इस हिंदू संगठन का कार्यालय सील, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष नजरबंद, 7 गिरफ्तार

[MORE_ADVERTISE1]
[MORE_ADVERTISE2]

उन्होंने कहा कि राम तो मर्यादा है। राम जीवन का श्रेष्ठ आचरण है। राम प्रेम हैं। राम तो हार्मनी के देवता हैं। अगर कोई राम के नाम पर, अल्लाह के नाम पर, मजहब के नाम पर, किसी भी प्रकार की हिंसा या अफवाह फैलाता है या दुर्भावना पैदा करने की कोशिश करता है वह कतई स्वीकार नहीं करना चाहिए। सबको एकजुट होकर यह दिखाना है कि सब भारतवासी संविधान को मानते हैं। सब भारतवासी एकता से रहते हैं। यह संदेश आज के इतिहासिक दिन और ऐतिहासिक फैसले पर दिखाना है।

यह भी पढ़ें: फैसले के बाद शहर काजी का आया बयान, सुने क्या कहा

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले में विवादित ढांचे की जमीन पर राम मंदिर बनाए जाने का एतिहासिक फैसला सुनाया है। वहीं मस्जिद के लिए सरकार से दूसरी जगह पांच एकड़ जमीन देने के निर्देश कोर्ट ने दिए हैं। इसके साथ ही कोर्ट ने सरकार से तीन महीने में मंदिर निर्माण के लिए संस्थान का गठन करने को भी कहा है।

[MORE_ADVERTISE3]