स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मुंह में च्यूंगम डालकर बन जाते थे मंत्री, फिर अधिकारियों को ऐसे लगाते थे चूना

Virendra Kumar Sharma

Publish: Aug 19, 2019 12:42 PM | Updated: Aug 19, 2019 12:43 PM

Noida

खबर की खास बातें:—

1. केंद्रीय मंत्री के पीएसओ बनकर कर चुके ठगी
2. क्राइम बा्रंच का अधिकारी बनकर एक व्यक्ति को लूटने का आरोप

 

नोएडा. थाना फेज-3 पुलिस ने केंद्रीय मंत्री का पर्सनल सेक्रेटरी (पीएस) व क्राइम ब्रांच के फर्जी अफसर बनकर लूटपाट व अवैध वसूली करने वाले 2 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। दोनोंं आरोपियों ने जेल भेजने की धमकी देकर एक व्यक्ति को कार में बंधक बनाकर 33 हजार लूटे थे। पुलिस ने बताया कि पकड़े गए आरोपी पहले भी केंद्रीय मंत्री का पीएस और क्राइम ब्रांच के अफसर बनकर लोगों के साथ ठगी कर चुके है।

यह भी पढ़ें: स्वंतत्रता दिवस पर माहौल बिगाड़ने की रची गई थी यह साजिश, खुफिया विभाग अलर्ट

जानकारी के अनुसार, 15 अगस्त को थाना फेज-3 क्षेत्र के ममूरा निवासी भारत उर्फ अर्जुन ने शिकायत दर्ज कराई थी कि दो लोगों ने क्राइम ब्रांच का अफसर बताकर उन्हें गाड़़ी में बंधक बना लिया। जेल भेजने की धमकी देकर उनसे 50 हजार रुपये की मांग की। दोनों ने उनसे 8 हजार रुपये नकद व 25 हजार रुपये एटीएम से निकलवा लिए। दोनों ने पुलिस से शिकायत करने पर जान-माल का नुकसान उठाने की धमकी भी दी।

एसपी सिटी विनीत जायसवाल ने बताया कि आरोपियों के कब्जे से तीन फर्जी आईकार्ड व घटना में इस्तेमाल कार बरामद कर ली है। ये विभिन्न राज्यों के मंत्री बनकर, आवाज बदलकर, केन्द्रीय मन्त्रियों के पर्सनल सेक्रेट्री व पीएसओ बताते थे। ये सरकारी विभागों में स्थानान्तरण कराने के नाम पर अवैध वसूली करते हैं। उन्होंने बताया कि क्राइम ब्रान्च का अधिकारी बताकर लोगों को मुकदमे में फंसाने की धमकी देते थे। उसके बाद लोगों से अवैध वसूली करते थे। आरोपी आकाश शर्मा व प्रेम शर्मा किसी भी सरकार का मन्त्री बताकर मनचाहा कार्य करा लेने का झांसा देते थे। उसकी एवज में मोटी रकम वसूल लिया करते थे। सरकारी विभागों में ट्रांसफर के नाम पर आरोपी कई लोगों को ठग चुके है।

बीएससी पास आरोपित आकाश मंत्री, केंद्रीय मंत्री व मंत्री का पीएसओ व पर्सनल सेक्रेटरी बनकर अधिकारियों को फोन कर जालसाजी करता था। इनमें से एक के खिलाफ 2016 में बुलंदशहर में जालसाजी के अलग-अलग दो मामले दर्ज हुए है। ये शिक्षा विभाग व खाद्य विभाग में मनचाहे ट्रांसफर करा चुके है।

यह भी पढ़ें: लंदन से भारत पहुंचे बाइक सवारों की बदल गई सोच, कही यह बात