स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ट्रक पर कटा 1.16 लाख का चालान, मालिक ने भरने के लिए दिए पैसे, ड्राइवर लेकर हुआ फरार

Shiwani Singh

Publish: Sep 09, 2019 14:44 PM | Updated: Sep 10, 2019 12:08 PM

New Delhi

  • चालान भरने के लिए मालिक ने ट्राइवर को दिए 1.16 लाख रूपए
  • ट्राइवर चालान के पैसे लेकर हुआ फरार
  • ओवरलोडिंग की वजह से कटा था चालान

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में मोटर वीइकल ऐक्ट 2019 लागू होने के बाद कई लोगों के चालान हुआ है। एक व्यक्ति को जहां 23 हजार का चालान भरना पड़ा था। वहीं, एक ट्रैक्टर चालक को शराब पीकर गाड़ी चलानी इतनी महंगी पड़ी थी कि उसे 59 हजार का चालान देना पड़ा था। अब ख़बर है कि ट्राफिक पुलिस ने ओवरलोडिंग की वजह से एक ट्रक पर 1.16 लाख रुपए का चालान काटा है। ट्रक मालिक ने इसे भरने के लिए जैसे-तैसे पैसे भी जोड़े थे। लेकिन ये पैसे चोरी हो गए।

यह भी पढ़ें-ट्रैफिक पुलिस के चालान से ऐसे बच सकते हैं आप, अपनाए ये 10 तरीके

delhi-traffic-police_-tinted-glass-3_647_100515082057_5045521_835x547-m_5048686-m.jpeg

दरअसल, 57 साल के एक ट्रक मालिक का ट्रक उत्तर प्रदेश के फिरोजपुर से मिला है। मालिक यामीन खान के मुताबिक, उनके ट्रक का रेवाड़ी में 1.16 लाख रुपए का चालान हुआ था। ओवरलोडिंग की वजह से ट्रैफिक पुलिस ने उनका चालान काट था। उन्होंने जैसे-तैसे कर के चालान के पैसे जोड़े और अपने ड्राइवर को आरटीओ ऑफिस में पैसे जमा करने के लिए दिया। लेकिन इतने सारे पैसे एक साथ देखकर ड्राइवर की नियमत खराब हो गई और वह पैसे लेकर भाग गया।

यह भी पढ़ें-दिल्ली: 15 हजार की थी स्कूटी, 23 हजार का कटा चालान

वहीं अब ट्रक मालिक ने अपने ट्राइवर पर 1.16 लाख रुपए लेकर भागने का आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज करवाई है। पुलिस ने आरोपी की पहचान झब्बू हुसैन के रूप में की है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इस मामले में पूछताछ के लिए पुलिस आरोपी ड्राइवर के घर भी पहुंची थी। उसी समय आरोप झब्बू भी वहीं आ गया। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर उसके पास से पैसे बरामद कर लिए हैं।

ओवरलोडिंग पर कटेगा इतना चालान

1563974888-delhi_traffic_police_representative_img_5048686_835x547-m.jpeg

आपको बता दें कि नए मोटर वीइकल ऐक्ट के मुताबिक ओवरलोडिंग का जुर्माना 2 हजार से बढ़कर 20 हजार हो गया है। इसके अलावा अतिरिक्त भार के लिए प्रति टन पर दो हजार रुपए देने होते हैं।