स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मां ने स्कूल में करवाया औचक निरीक्षण, छात्रों के बैग से मिले सैकड़ों ई सिगरेट

Shiwani Singh

Publish: Sep 20, 2019 16:27 PM | Updated: Sep 20, 2019 16:58 PM

New Delhi

  • स्कूल में स्टूडेंट्स के पास से मिले सैकड़ो ई सिगरेट
  • मां ने स्कूल से की थी शिकायत
  • छात्र की मां को शक था का उनका बेटा करता है नशा

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने ई सिगरेट पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया है। इसकी बिक्री पर एक लाख रुपए का जुर्माना या फिर एक साल की सजा, दोनों का प्रावधान है। ई सिगरेट की बिक्री पर रोक लागाने के लिए सरकार कई तरह के उपाए कर रही है लेकिन इसकी बिक्री कम होती नहीं दिख रही। जिसका नतीजा है कि दिल्ली से ई सिगरेट को लेकर चौंका देने वाली ख़बर सामने आई है। दिल्ली के एक नामी स्कूल से छात्रों के पास से 150 से भी ज्यादा ई सिरगरेट बरामद हुए हैं।

यह भी पढ़ें-अमेजन के जंगलों में लगी आग ने पिछले 6 साल में मचाई सबसे बड़ी तबाही, ये तस्वीरें हैं गवाह

दरअसल, स्कूल में पढ़ने वाले एक छात्र की मां को शक था की उनका बेटा ई सिगरेट का इस्तेमाल करता है। लेकिन वह इसे लेकर कुछ कर नहीं पा रही थी। जिसके बाद उन्होंने इस बारे में स्कूल प्रशासन से शिकायत की।

शिकायत के बाद स्कूल में प्रिसिंपल ने 10वीं से 12वीं कक्षा के छात्रों की औचक चेकिंग कराई। इस दौरान सीनियर स्टूडेंट्स के पास से सैकड़ों की संख्या में सिगरेट बरामद हुए। जिसके बाद स्कूल प्रशासन ने ई सिगरेट जब्त कर उनके परिजनों को सूचना दी।

क्या होता है ई सिगरेट?

e-cigarettes.jpg

ई-सिगरेट एक तरह का इलेक्ट्रॉनिक इन्हेलर है। जिसमें निकोटीन सहित कई तरह के केमिकलयुक्त लिक्विड भरे जाते हैं। इन्हेलर बैट्री की ऊर्जा से उसमें मौजूद लिक्विड को भाप में बदल देता है। इसे पीने वाले को सिगरेट पीने जैसा एहसास होता है। आपको बता दें कि कई बार ई-सिगरेट में जिस लिक्विड को भरा जाता है, कई बार वो निकोटिन होता है। लेकिन कई बार ई सिगरेट में उससे भी ज्यादा खतरनाक केमिकल भरे जाते हैं। यही वजह है कि ई-सिगरेट को सेहत के लिहाज से सुरक्षित नहीं माना जाता।