स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दिल्ली हाई कोर्ट का बड़ा फैसला, फीस बकाया होने पर TC नहीं रोक सकते स्कूल

Shiwani Singh

Publish: Jul 12, 2019 17:14 PM | Updated: Jul 12, 2019 17:26 PM

New Delhi

  • Delhi HC Order on Student TC नहीं रोक सकता स्कूल
  • एक पत्र पर संज्ञान लेते हुए दिल्ली हाई कोर्ट ने लिया फैसला
  • Delhi School Education Act के तहत TC नहीं रोक सकता स्कूल

नई दिल्ली। दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली के स्कूलों को स्थानांतरण प्रमाण पत्र ( delhi hc Order on Student TC ) को लेकर बड़ा फैसला सुनाया है। हाईकोर्ट ने स्कूलों को निर्देश जारी किया है कि वे फीस बकाया होने की स्थिति में किसी भी छात्र का TC रोकस नहीं सकते। बता दें कि न्यायाधीश डी. एन. पटेल की अध्यक्षता वाली एक पीठ ने बीती गुरुवार को एक पत्र का संज्ञान लेते हुए यह आदेश जारी किया।

यह भी पढ़ें-मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना: CM केजरीवाल श्रद्धालुओं से भरी पहली ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर करेंगे

क्या है मामला

 

हाई कोर्ट में इस पत्र में कार्तिक और प्रियांश के मामले का उल्लेख था। दरअसल, दिल्ली में उनके वर्तमान स्कूल ने करीब एक लाख रुपए की फीस बकाया होने की वजह से स्थानांतरण प्रमाण पत्र ( Transfer Certificate ) जारी करने से मना कर दिया था। TC ना मिलने की वजह से वे दूसरे स्कूल में प्रवेश नहीं ले पा रहे थे।

कोर्ट ने दिया ये निर्देश

पत्र को जनहित याचिका ( public interest litigation ) में बदलने के बाद दिल्ली हाईकोर्ट ने निजी स्कूल को एक सप्ताह के अंदर नौ वर्षीय कार्तिक (कक्षा तीन) और पांच वर्षीय प्रियांश (प्री-प्राइमरी) के माता-पिता को TC ( Delhi HC Order on Student TC ) जारी करने का निर्देश दिया है।

क्या कहता है दिल्ली स्कूल शिक्षा अधिनियम

delhi student

वहीं, हाईकोर्ट के सहयोग के लिए न्यायालय मित्र के रूप में नियुक्त अधिवक्ता अशोक अग्रवाल ने तर्क दिया कि दिल्ली स्कूल शिक्षा अधिनियम, 1973 के नियम 167 के तहत, एक स्कूल फीस के बकाया होने पर अपने रजिस्टर से छात्र का नाम हटा सकता है। लेकिन इसे मुद्दा बनाकर वह छात्र के स्थानांतरण प्रमाण पत्र को नहीं रोक सकता।

यह भी पढ़ें-दिल्ली: बदमाशों ने चलती कार में महिला की गोली मारी, हालत गंभीर

बहस खत्म होने के बाद हाईकोर्ट ने कहा कि दिल्ली स्कूल शिक्षा अधिनियम ( Delhi School Education Act ) के तहत एक निजी स्कूल के पास बकाया फीस का भुगतान न करने पर छात्र का टीसी ( Delhi HC Order on Student TC ) रोकने कोई अधिकार नहीं है।