स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दिल्ली पर मंडराया बाढ़ का खतरा, लगातार बढ़ रहा यमुना का जलस्तर

Prashant Kumar Jha

Publish: Aug 18, 2019 18:09 PM | Updated: Aug 18, 2019 18:09 PM

New Delhi

  • हरियाणा के हथिनीकुंड बैराज के सभी गेट खोले गए
  • हिमाचल, उत्तराखंड और पंजाब में भारी बारिश से बढ़ी परेशानी
  • दिल्ली के निचले इलाकों से लोगों को खाली कराया जा रहा

नई दिल्ली। पहाड़ से लेकर मैदानी इलाकों तक बारिश और बाढ़ से तबाही मची हुई है। हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब और हरियाणा में भारी बारिश से जनजीवन अस्त व्यस्त है। भारी बारिश के कारण हरियाणा के हथनीकुंड बैराज का जल स्तर बढ़ गया है। हथिनीकुंड बैराज के फाटक खोल दिया गया है। ऐसे में दिल्ली पर बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है।

नदी के आसपास रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा जा रहा

यमुना नदी और निचले इलाके में रहने वाले रहवासियों को तत्काल खाली करने का निर्देश दिया गया है। हालांकि सरकार की ओर से लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है। साथ ही दिल्ली सरकार खुद इन इलाकों का दौरा कर लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजने का काम कर रही है।

ये भी पढ़ें: #संसदकेस्टार: क्या अब कमजोर पड़ जाएगी सूचना के अधिकार की धार?

Delhi rain

लगातार बढ़ रहा जलस्तर

हथिनीकुंड बैराज के अधिकारियों ने बताया कि यमुना नदी का जलस्तर बढ़ गया है, जिससे नई दिल्ली में बाढ़ का खतरा पैदा हो सकता है। एक अधिकारी ने कहा कि बैराज में जलस्तर करीब छह लाख क्यूसेक तक बढ़ा है, जिससे अधिकारियों को राज्य के निचले इलाकों के लिए अलर्ट जारी करना पड़ा है। दिल्ली पुलिस ने लाउडीस्पीकर से लोगों से निचले इलाके को खाली करने को कहा है।

 

Delhi rain

हरियाणा के कई शहरों से होकर गुजरती है यमुना नदी

अधिकारियों के अनुसार, बैराज में 70,000 क्यूसेक तक के जलस्तर को सामान्य माना जाता है, जबकि 2.5 लाख क्यूसेक से ज्यादा को अत्यधिक बाढ़ माना जाता है। बता दें कि यमुना नदी हरियाणा के यमुनानगर, करनाल व पानीपत जिलों से होकर भी गुजरती है।

ये भी पढ़ें: धू-धूकर जलने लगा AIIMS का इमरजेंसी वार्ड, देखे वीडियो

सोमवार को भारी बारिश की चेतावनी

बाढ़ नियंत्रण विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में यमुना का जलस्तर खतरे के स्तर को पार कर गया है। हथनीकुंड बैराज से सामान्य तौर पर जल को राजधानी तक पहुंचने में 72 घंटे लगते हैं। मौसम विभाग ने हिमाचल प्रदेश उत्तराखंड, पंजाब और हरियाणा में सोमवार तक भारी बारिश की संभावना जताई है।