स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दिल्लीवासियों को केजरीवाल सरकार बड़ा तोहफा, फिक्स्ड चार्ज घटने से बिजली सस्ती

Shiwani Singh

Publish: Jul 31, 2019 18:31 PM | Updated: Aug 01, 2019 07:58 AM

New Delhi

  • केजरीवाल सरकार ने फिस्स चार्ज घटाया
  • 75 रुपए से लेकर 105 रुपए तक की कटौती
  • नई दरें 1 अगस्त से लागू

नई दिल्ली। दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले केजरीवाल सरकार ( arvind kejriwal govt ) ने दिल्लीवालियों को बड़ा तोहफा दिया है। दिल्ली में बिजली पर फिक्स चार्ज घटा ( delhi fix charges reduced ) दिए गए है। जिससे दिल्ली में बिजली सस्ती हो गई है। 15 किलोवाट तक बिजली का उपयोग करने वाले उपभोक्ताओं के लिए फिक्स्ड चार्ज में प्रति किलोवाट 75 रुपए से लेकर 105 रुपए तक की कटौती की गई है। बता दें कि ये नई दरें 1 अगस्त से लागू हो जाएंगी।

यह भी पढ़ें-मोदी कैबिनेट: जम्मू-कश्मीर आरक्षण संशोधन विधेयक और SC में जजों की संख्या बढ़ाने को मंजूरी

कितनी की गई कटौती

दिल्ली विद्युत विनियामक आयोग ( derc ) के चेयरमैन जस्टिस एसएस चौहान ने बताया कि 2 किलोवाट तक बिजली की खपत करने वालों को 20 रुपए प्रति किलोवाट शुल्क देना होगा, जो पहले 125 रुपए प्रति किलोवाट थी। इसके अलावा 1200 यूनिट से अधिक बिजली का उपयोग करनेपर प्रति यूनिट शुल्क बढ़ाया जाएगा। यह पहले 7.75 रुपए था, जो अब 8 रुपए प्रति यूनिट किया गया है। बता दें कि इस बदलावा से दिल्ली के 64000 ग्राहकों पर असर पड़ेगा।

 

delhi

एसएस चौहान ने बताया कि पहले 2 से 5 किलोवाट तक के लिए फिक्स्ड चार्ज 140 रुपए प्रति किलोवाट था। जिसमें कमी कर के इसे 50 रुपए प्रति किलोवाट किया गया है। वहीं, 5 से 15 किलोवाट पर 100 रुपए का चार्ज लगेगा जो पहले 175 रुपए था।

इलेक्ट्रिक गाड़ी चार्ज करना हुआ सस्ता

delhi

दिल्ली सरकार ई-रिक्शा और इलेक्ट्रिक व्हीकल को चार्ज करने वालों के लिए भी सौगात लेकर आई है। अब इलेक्ट्रिक गाड़ी और ई रिक्शा चार्ज करना सस्ता हो जाएगा। इनके लिए बनाए गए चार्ज स्टेशन पर भी बिजली के रेट घटा दिए गए हैं। इसके अलावा LT लेवल के लिए चार्ज 5.5 रुपए प्रति यूनिट से घटाकर 4.5 रुपए यूनिट कर दिए गए हैं। वही, HT लेवल के लिए चार्ज 5 रुपए प्रति यूनिट से 4 रुपए हो गए हैं।

इनमें नहीं हुआ कोई बदलाव

delhi

दिल्ली विद्युत विनियामक आयोग (DERC) के चेयरमैन ने बताया कि 15 से 25 किलोवाट तक में कोई बदलाव नहीं किया गया है। 15 से 25 किलोवाट तक की बिजली खपत करने वालों को पहले की तरह 200 रुपए किलोवाट शुल्क ही देना होगा।