स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

एसएमसी और बच्चों के एकाउंट बंद, बच्चे राशि के इंतजार में परेशान

Subodh Kumar Tripathi

Publish: Sep 21, 2019 12:59 PM | Updated: Sep 21, 2019 12:59 PM

Neemuch

एसएमसी और बच्चों के एकाउंट बंद, बच्चे राशि के इंतजार में परेशान

नीमच. राज्य शिक्षा केंद्र द्वारा बच्चों की गणवेश की राशि जारी करने के बाद भी जिले में अधिकतर विद्यालयों के एसएमसी के खातों में राशि नहीं पहुंची है। जिसका मुख्य कारण एक परिसर एक शाला के तहत प्राथमिक विद्यालयों के खाते बंद होना है। चूकि जब एसएमसी के खाते में ही गणवेश की राशि नहीं पहुंची है तो बच्चों के खाते में कब राशि पहुंचेगी, चिंता का विषय है। क्योंकि पहले ही सत्र प्रारंभ हुए ढ़ाई माह से अधिक का समय बीत चुका है। लेकिन बच्चे बिना गणवेश के विद्यालय पहुंच रहे हैं।


बतादें की इस बार बच्चों के गणवेश की राशि सीधे भोपाल से संबंधित विद्यालय के एसएमसी के खाते में चंद दिनों पहले भेजी है। लेकिन जिले के अधिकतर विद्यालयों में गणवेश की राशि नहीं पहुंची है। क्योंकि अभी तक प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालय दोनों के बैंक खाते अलग अलग होते थे। इस कारण कभी दिक्कत नहीं आई। लेकिन इस बार से जिले में एक परिसर में स्थित सभी शालाओं को एक शाला बना दिया गया है। इस कारण अगर कहीं माध्यमिक और प्राथमिक विद्यालय एक साथ एक परिसर में संचालित हो रहे हंै, तो प्राथमिक विद्यालय का खाता बंद करा दिया गया, लेकिन प्रावि का खाता बंद होने के बाद माध्यमिक के खाते में उक्त प्रावि के बच्चों की राशि डालने की जानकारी नहीं पहुंची, इस कारण जिले के कई प्राथमिक विद्यालयों के खाते में इस बार गणवेश की राशि नहीं पहुंची है।


बच्चों के खाते भी हुए बंद
शासकीय विद्यालय में पढऩे वाले कक्षा 1 से 8 तक के बच्चों को शासन की योजना अनुसार दो दो गणवेश के लिए प्रत्येक बच्चे को 600-600 रुपए की राशि दी जानी है। जिसके तहत पहले गणवेश की राशि एसएमसी के खाते में दी जाती है। उसके बाद बच्चों की सूची बनाकर एक चेक के माध्यम से बैंक में लिस्ट दी जाती है, फिर बैंक वाले एक एक कर सभी बच्चे के खाते में राशि डालते हैं। चूकि बच्चे व उनके परिजन उक्त गणवेश की राशि निकालने के बाद सालभर कोई ट्रांजेक्शन नहीं करते हैं, इस कारण कई बच्चों के खाते ट्रांजेक्शन नहीं होने के कारण बंद हो जाते हैं। जिन्हें फिर से चालु करवाकर बच्चों के खाते में गणवेश की राशि पहुंचाई जाती है। इस प्रकार इस बार गणवेश की राशि आने के बाद भी इस प्रकार की समस्या आने से निश्चित ही इस माह भी बच्चे नई गणवेश में विद्यालय पहुंचना किसी चुनौती से कम नहीं है।


एक परिसर एक शाला के चलते हमारा खाता बंद करवा दिया गया। इस कारण हमारे विद्यालय के बच्चों की गणवेश की राशि नहीं आई है। इस संबंध में हमने जिम्मेदारों को अवगत कराया है। हालांकि माध्यमिक विद्यालय में गणवेश की राशि आ गई है।
-बाबूलाल पाटीदार, शाला प्रधान, कन्या प्रावि नीमच कैंट


हमारे विद्यालय के एसएमसी के खाते में राशि तो आ गई है। लेकिन अब बच्चों की सूची अपडेट की जा रही है, ताकि बैंक में सूची के साथ चेक लगाकर राशि बच्चों के खाते में डलवाएं। चूकि कई बच्चों के खाते में सालभर कोई ट्रांजेक्शन नहीं होने के कारण खाते बंद हो जाते हैं। इस कारण बंद खातों में राशि नहीं पहुंच पाती है। इसलिए जिन बच्चों के खाते में राशि नहीं जाएगी, उनके खाते फिर से ओपन करवाकर राशि जारी करेंगे।
-हिम्मतसिंह जैन, शाला प्रधान, सिंधी शाला


जिन विद्यालयों के एसएमसी के खाते में गणवेश की राशि नहीं पहुंची है। उनकी जानकारियां मंगाई है। गणवेश की राशि शीघ्र ही जारी करवाएंगे, ताकि बच्चों को भी समय पर गणवेश की राशि मिल जाए।
-डॉ पीएस गोयल, डीपीसी