स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

26 दिसंबर को खंडग्रास के रूप में नजर आएगा सूर्यग्रहण

Subodh Kumar Tripathi

Publish: Dec 09, 2019 13:11 PM | Updated: Dec 09, 2019 13:11 PM

Neemuch

26 दिसंबर को खंडग्रास के रूप में नजर आएगा सूर्यग्रहण

-दो घंटे 47 मिनट रहेगा ग्रहण, एक दिन पहले रात को लग जाएगा सूतक

नीमच. भारत सहित विभिन्न देशों में नजर आने वाला सूर्यग्रहण जहां विभिन्न स्थानों पर कंकण सी आकृति का नजर आएगा। वहीं यह सूर्यग्रहण नीमच जिले में खंडग्रास सूर्यग्रहण के रूप में नजर आएगा। इस ग्रहण का सूतक एक दिन पहले रात ८ बजे से लग जाएगा। इस कारण मंदिरों के पट भी जहां एक दिन पहले बंद हो जाएंगे। वहीं दूसरे दिन मोक्ष होने के बाद दिन में खुलेंगे। यह खंडग्रास सूर्यग्रहण जिले में करीब २ घंटे ४७ मिनट नजर आएगा।
सांवरिया सेठ मंदिर नीमच सिटी पंडित राजेंद्र पुरोहित ने बताया कि २६ दिसंबर को साल का अंतिम ग्रहण आ रहा है। जिसका सूतक २५ दिसंबर की रात ८ बजकर ०९ मिनट पर लग जाएगा। यानि सूतक लगते ही मंदिरों के पट बंद हो जाएंगे। वहीं ग्रहण का स्पर्श २६ दिसंबर सुबह ०८ बजकर ०९ मिनट पर प्रारंभ होगा। जिसका मध्य ९ बजकर ३६ मिनट पर व मोक्ष १० बजकर ५६ मिनट पर रहेगा। इस प्रकार कुल २ घंटे ४७ मिनट तक २६ दिसंबर को खंडग्रास सूर्यग्रहण रहेगा। इस कारण मोक्ष होने के बाद ही सुबह करीब ११ बजे बाद मंदिरों के पट खुलेंगे।
यह ग्रहण भारत के साथ ही थाईलैंड, अफ्रीका, आस्टे्रलिया सहित अन्य देशों व भारत में मध्यप्रदेश, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, गुजरात आदि प्रदेशों में नजर आएगा। यह सूर्य ग्रहण जहां भारत के कुछ हिस्सों में कंकण समान आकृति का नजर आएगा। वहीं अधिकतर हिस्से में खंडग्रास सूर्यग्रहण के रूप में नजर आएगा। ग्रहण का स्वामी चंद्रमा है वहीं ग्रहण पौषमाह में आ रहा है। जिसका प्रभाव राशि अनुसार अलग अलग पड़ेगा।
पंडित पुरोहित ने बताया कि सूतक लगने के बाद भोजन करना, पूजा पाठ , शुभ कार्य आदि वर्जित हैं। वहीं ग्रहण के दौरान भजन कीर्तन, मंत्र जाप, पाठ आदि कर सकते हैं। ग्रहण का मोक्ष होने के बाद स्नान आदि कर शुद्धी की जाना चाहिए। वहीं ग्रहण में दान का अधिक महत्व है, इस कारण अपनी राशि अनुसार वस्तुओं का दान करने से पुण्य फल प्राप्त होता है। गर्भवति महिलाओं को ग्रहण में घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए। उन्हें ग्रहण नहीं देखना चाहिए व बुजुर्गों व पंडितों के बताए अनुसार नियमों का पालन करना चाहिए।

[MORE_ADVERTISE1]