स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

विद्यार्थी स्कूल के ताले बंद कर उतरे सड़क पर, रोका रास्ता

Subodh Kumar Tripathi

Publish: Dec 08, 2019 11:48 AM | Updated: Dec 08, 2019 11:48 AM

Neemuch

विद्यार्थी स्कूल के ताले बंद कर उतरे सड़क पर, रोका रास्ता

नीमच/जीरन. हिंदी के शिक्षक का तबादला कोठड़ी इस्तमुरार से कोज्या होने पर शनिवार को विद्यार्थियों ने विद्यालय के गेट पर ताला ठोककर करीब दो घंटे तक मुख्य मार्ग पर बैठकर रास्ता जाम कर जमकर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के पदाधिकारी और विद्यार्थी काफी संख्या में उपस्थित रहे। जिसके बाद मौके पर पुलिस प्रशासन ने पहुंचकर विद्यार्थियों को आश्वासन देकर मामला शांत किया।
समीपस्त गांव कोटड़ी इस्तमुरार के शाउमावि के विद्यार्थियों ने शनिवार को एबीवीपी के साथ मिलकर विद्यालय के गेट पर ताला लगाकर कक्षाओं का बहिष्कार किया। जिसके बाद नीमच जीरन मार्ग पर कोटड़ी इस्तमुरार बस स्टैंड के यहां बैठकर रास्ता जाम किया, ऐसे में सड़क के दोनों ओर वाहन खड़े होकर प्रदर्शन बंद होने का इंतजार कर रहे थे, ऐसे में एंबुलेंस भी आई। लेकिन उसे निकलने दिया गया। वैसे तो शिक्षक का टांसफर २ दिसंबर को ही हो गया था, लेकिन वे मेडिकल पर चले गए थे, इसके चलते जैसे ही उन्हें रिलिव किया गया, विद्यार्थियों ने हंगामा कर दिया।
यह था मामला
शाउमावि कोटड़ी इस्तमुरार में पदस्थ हिंदी शिक्षक हरिशंकर चौहान का तबादला कोटड़ी से सिंगोली तहसील के गांव कोज्या कर दिया गया। जिससे छात्रों की पढ़ाई प्रभावित होगी ओर परीक्षा सिर पर आने से विद्यार्थी चिंतित हो उठे। जिसको लेकर विद्यार्थियों ने शिक्षक के तबादले को रूकवाने के लिए प्रदर्शन किया। जिसमें सबसे पहले विद्यार्थियों ने स्कूल के गेट पर ताला लगाकर मुख्य द्वार पर प्रदर्शन किया। लेकिन कोई प्रसाशनिक अधिकारी का ध्यान नहीं गया तो छात्रों ने एबीवीपी के साथ मिलकर मुख्य मार्ग पर पहुंचकर प्रदर्शन शुरू किया। विद्यार्थी सुबह करीब 10 बजे से विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। जो दोपहर बाद तक करीब २ से ३ घंटे तक चला। इस बीच जीरन से नीमच की आवक जावक बंद रही। विद्यार्थियों के प्रदर्शन की जानकारी मिलने के बाद पुलिस प्रशासन पहुंचा, लेकिन विद्यार्थी टस से मस नहीं हुए। जिसके बाद विद्यार्थियों को समझाने के लिए जीरन तहसीलदार मुकेश बामनिया, संकुल प्राचार्य बीएल झावरिया ने आकर विद्यार्थियों के आक्रोश को शांत किया व तत्काल प्रभाव से बीएल झावरिया ने जिला शिक्षा अधिकारी से चर्चा कर जीरन कन्या स्कूल में पदस्थ शिक्षक शालिग्राम मालवीय का कोटड़ी स्कूल में स्तान्तरण किया गया। उसके बाद भी छात्रों की मांग रही कि हमें तो चौहान सर ही चाहिए। जिसको लेकर उक्त आयोग के नाम छात्रों ने जीरन तहसीलदार मुकेश बामनिया को ज्ञापन सौपा व मांग करी की जल्द से जल्द ट्रांसफर रुकवाया जाए।
कोटड़ी स्कूल के शिक्षक का ट्रांसफर आयुक्त द्वारा सिंगोली के पास गांव कोज्या कर दिया गया। जिसको लेकर छात्रो ने स्कूल में तालाबंदी की है। जिसको देखते हुए तत्काल प्रभाव से कोटड़ी स्कूल में शिक्षक सालिग्राम मालवीय का स्थानांतरण कर दिया गया है। छात्रो का कहना है कि हमे चौहान सर ही चाहिए। विद्यार्थियों ने जो ज्ञापन सौंपा है उसे हम आयुक्त कार्यालय भिजवाएंगे। उसके बाद वरिष्ठ अधिकारी फैसला लेंगे।
-बीएल झावरिया, संकुल प्राचार्य, जीरन
कोटड़ी इस्तमुरार स्कूल के शिक्षक का स्थानांतरण हुआ है। जिसे केंसिल करने की मांग को लेकर विद्यार्थियों द्वारा रास्ता जाम कर प्रदर्शन किया गया। विद्यार्थियों के लिए वैकल्पिक व्यवस्था के लिए शिक्षक की नियुक्ति कर दी गयी है। विद्यार्थियों की मांग से उच्च अधिकारी को प्रेषित करेंगे।
-मुकेश बामनिया, तहसीलदार, जीरन
हिंदी शिक्षक हरिशंकर चौहान का ट्रांसफर किसी द्वेषता को लेकर राजनीति दबाव के चलते किया गया है। शिक्षक का अपनापन होने के कारण विद्यार्थियों में आक्रोश है। जिसको लेकर प्रदर्शन किया गया। चौहान सर का ट्रांसफर रुकवाए जाए। नहीं तो सोमवार से परीक्षा है हम परीक्षा देने नहीं जाएंगे। परीक्षा का बहिष्कार करेंगे।
-अंकित बैरागी, शाउमावि कोटड़ी इस्तमुरार, एबीवीपी नगरमंत्री
शिक्षक का स्थानांतरण प्रशासनिक रूप से हुआ है। चूकि वहां पहले से ही हिंदी शिक्षक मौजूद हैं, इस कारण किसी प्रकार की दिक्कत तो आनी नहीं है। फिर भी तुरंत प्रभाव से एक शिक्षक को पदस्थ कर दिया है। वैसे तो उनका ट्रांसफर २ दिसंबर को हो गया था, लेकिन वे मेडिकल पर चले गए थे।
-केएल बामनिया, जिला शिक्षा अधिकारी, नीमच

[MORE_ADVERTISE1]