स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पैकिंग पैकेट में कैसा जहर दे रहे बच्चों को पढ़े....

Virendra Singh Rathore

Publish: Sep 21, 2019 09:43 AM | Updated: Sep 21, 2019 09:43 AM

Neemuch

पैकिंग पैकेट में कैसा जहर दे रहे बच्चों को पढ़े....

नीमच। जिला प्रशसान के द्वारा शुद्ध के लिए युद्ध का चलाया गया अभियान थमने का नाम नहीं ले रहा है। एक बाद एक मिलावटखोर व्यापारी का चेहरा उजागर हो रहा है। खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम ने शुक्रवार को भी शहर के दो प्रतिष्ठित संस्थान सैनी सेव भंडार और जय संत कंवराम कन्फैक्शनरी पर दबिश देकर जांच की है। इस दौरान प्राथमिक तौर कई अनियमितता सामने आने पर दोनों के सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे गए है। वहीं बिना एक्सपायरी डेट और एफएससीआई का ट्रेड मार्क तथा बिना पते के प्रोडेक्ट करीब तीन हजार कुरकुरे के पैकेट और ८० बर्नी चाकलेट की भूलियावास ट्रेचिंग ग्राउड में जलाकर नष्ट की है।

मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी संजीव मिश्रा ने बताया कि मिलावटखोरों पर लगातार कार्रवाई के दौरान शुक्रवार दोपहर एक बजे गायत्री मंदिर रोड पर स्थित सेनी सेव भंडार की दुकान पर शिकायत के बाद वहां पहुंचकर जांच शुरू की। इस दौरान बेसन व अन्य खाद्य पदार्थ सहित तेल के नमूनों को लेकर जंाच के लिए प्रयोगशाला भेजा है। बेसन की शुद्धता और मूंगफली के तेल की शुद्धता को मापा जाएगा। वही अन्य इस्तेमाल मसालों की भी जांच की जाएगी। वहीं दूसरी और दोपहर तीन बजे बंगला नंबर 49 कमल चौक समीप स्थित जय संत कंवराम कन्फैक्शनरी की दुकान पर दबिश दी गई है। इस दौरान जांच में भारी अनियमितता उजागर हुई है। बच्चों की चॉकलेट, रितिका मिक्स इमली, चाटूराम का खजाना फुटबॉल होलसेल के पैकेटो की जांच की गई है। जिन पर पैकिंग की एक्सपायरी डेट नहीं है और यहां तक की मैन्यूफैक्चर कंपनी का सिर्फ नाम पंकज प्रोड़ेक्टस लिखा है। पते में सिर्फ इंडिया लिखा है। वहीं पैकेट पर एफएससीआई का लायसेंस नहीं है। वहीं कुरकुरे को जलाने पर प्लास्टिक जैसी गंध आ रही है। सभी माल को स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होने के कारण भूलियावास ट्रेचिंग ग्राउंड में शाम करीब साढे़ बजे नष्ट कराया गया है। जिसमें तीन हजार कुरकुरे के पैकेट और ८० बर्नी चाकलेट है, जिसकी कुल कीमत करीबन 25 हजार रुपए है। वहीं इनके जांच नमूने लेकर प्रयोगशाला को भेजे गए है। मालिक कहां से माल लेता था और किससे माल खरीदा उसके बिल कुछ भी नहीं बता पाया है। उसका कहना है कि एक ट्रक आता है, जिससे माल खरीदते है, यह कभी पूछा नहीं कहां से बनकर आता है।

अभी तक सात मिलावटखोरों के खिलाफ प्रकरण दर्ज
खाद्य औषधि विभाग ने जिले में अभी तक सात मिलावटखारों के खिलाफ अपर कलेक्टर न्यायालय में प्रकरण दर्ज करया है। जिनके खाद्य सैंपल जांच में अमानक प्राप्त हुए हैं। जिनमें तेजा मिर्ची, नीलम मसाला, कंचनश्री जूसी श्रीखंड, केसरिया गोल्ड आटा, नागदा भोजनालय एंड रेस्टोरेंट भादवामाता, बेस्ट प्राइज से गाय हल्दी के नमूने फेल होने पर व्यापारियों पर कार्रवाई हुई है।