स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

विभागों के फेर में उलझी पुलिया, ग्रामीण भुगत रहे खामियाजा

Mahendra Kumar Upadhyay

Publish: Nov 19, 2019 19:08 PM | Updated: Nov 19, 2019 19:08 PM

Neemuch

दो विभागों के फेर में उलझी बनी-बरथुन मार्ग की पुलिया

नीमव. मनासा इस बार की बारिश मनासा विकासखंड के कई गांवों की सड़के एवं पुलिया अपने साथ बहा ले गई। सड़के एवं पुलिया टूटने पर गांवों का एक दूसरे से संपर्क टूट गया। बारिश थमने के बाद विभिन्न विभागों ने अपने अपने क्षेत्राधिकार के अंतर्गत आने वाली सड़को एवं पुलिया का युद्ध स्तर पर कार्य किया। ताकि लोगों को आवागमन में असुविधा नहीं हो। जहां एक ओर विकासखण्ड की करीब सारी सड़कों एवं पुलियाओं का कार्य युद्ध स्तर पर हो रहा है। वही दूसरी ओर गांव बनी-बरथुन मार्ग की पुलिया दो विभागों के फेर में उलझकर रह गई।
जानकारी के मुताबिक बनी-बरथुन मार्ग पर स्थित तालाब बारिश में ओवर फ्लो हो गया था। जिसके कारण तालाब का पानी पाल पर बनी सड़क को अपने साथ बहा ले गया। लगातार बारिश से सड़क का करीब 10 फीट हिस्सा अपने साथ बहा ले गई। जहां पर 15 से 20 फीट गहरा गड्ढा होने के साथ ही एक तरफ तालाब का पानी एवं दूसरी तरफ गहरी खाई होने के कारण बनी-बरथुन के लोगों का एक दूसरे से संपर्क पूरी तरह टूट गया। बनी बरथुन सड़क पीएम ग्रामीण सड़क योजना में बनी हुई है। जिनके अधिकारियों का कहना है कि आरईएस द्वारा तालाब की पाल का निर्माण करवाने के बाद सड़क का निर्माण करवाया जाएगा। वही आरईएस के अधिकारियों ने आनन फानन में स्टीमेट बनाने की बात कही हैं।
30 बच्चे बरथुन आते है पढऩे
बरथुन स्कूल में पढऩे आनेवाले गांव बनी, दरगपुरा सहित अन्य गांवों के बच्चों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि सड़क के बह जाने से इस मार्ग पर चलने वाली बसें बारिश के समय से बंद हैं। ऐसे में इन गांवों के बच्चों को करीब चार से पांच किलो मीटर पैदल चलकर स्कूल आना पड़ रहा है। बरथुन पढऩे आने वाले बच्चों की संख्या करीब 25 से 30 है जिनमें अधिकतर छात्राएं हैं। साथ ही यह मार्ग बरथुन, बड़कुआं, भदवा सहित अन्य गांवों को सीधे मनासा से जोड़ता है। लेकिन सड़क के अभाव में लोगों को करीब 10 किलोमीटर अतिरिक्त सफर तय कर मनासा जाना पड़ रहा है।
वर्जन
तालाब पर बनी सड़क का कार्य बैस तैयार नहीं होने के कारण रूका हुआ है। आरईएस विभाग द्वारा नीचे का बैस तैयार करने के बाद सड़क का कार्य प्रांरभ कर दिया जाएगा।
-मनोहरसिंह चुण्डावत, सहायक प्रबंधक पीएम ग्रामीण सड़क
बैस को लेकर स्टीमेट बना दिया है साथ ही मिट्टी डालकर वैकल्पिक मार्ग चालु कर दिया हैं। जल्दी बैस तैयार कर दिया जाएगा।
-केसी यादव, एसडीओ आरईएस
-----------

[MORE_ADVERTISE1]