स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

रेलवे दोहरीकरण के कार्यगति को बारिश के चलते लगे ब्रेक

Mahendra Kumar Upadhyay

Publish: Aug 20, 2019 10:40 AM | Updated: Aug 20, 2019 10:40 AM

Neemuch

- मार्च तक पूरा होना है, नीमच-चंदेरिया का कार्य
- कार्यपूर्ण होने के बाद बढ़ेगी एक्सप्रेस ट्रेन

नीमच। रेलवे द्वारा नीमच से चित्तौडग़ढ तक दोहरीकरण कार्य युद्ध स्तर पर चल रहा है, लेकिन अचानक लगातार बारिश ने तेज कार्य पर ब्रेक लगा दिया है। गत दस दिन से दोहरीकरण का कार्य बारिश के कारण बंद पड़ा है। जिससे ठेकेदारों की चिंता भी बड़ गई है। लेकिन पूरी आपदा से रेलवे को अवगत करा दिया गया है। नंवबर में समाप्त होने वाला कार्य दिसंबर माह तक के लिए बढऩा तय हो गया है। इसके लिए रेलवे ने तैयारी शुरू कर दी है। अभी विद्युतीकरण तेजी से चल रहा है। नीमच रेलवे स्टेशन पर नए प्लेटफ ॉर्म भी तैयार हो रहा है। इसके बाद नीमच से सीधे दिल्ली-मुंबई व देश के अन्य शहरों के लिए एक्सप्रेस ट्रेनों की सुविधा मिलेगी।

रेलवे नीमच के सीपीडब्ल्यूआई अमृतलाल ने बताया कि नीमच से चित्तौडग़ढ़ तक दोहरीकरण अंतिम चरण में है। नीमच से शंभुपुरा तक लाइन डल चुकी है। बारिश के कारण पिछले दस दिन से कार्य बंद हो गया है। जिससे थोड़ा सा कार्य की गति धीमी हुई है। लेकिन फिर से कार्य शुरू हो गया है। अब शंभुपुरा से निंबाहेड़ा तक लाइन डालने का कार्य प्रारंभ किया जा रहा है। यह कार्य नंबवर माह के भीतर पूरा करना था, लेकिन बारिश की अटकलों से लग रहा है कि दिसंबर माह तक कार्य पूर्ण होगा। आपको बता दे की नीमच से शंभूपुरा-निंबाहेड़ा की करीब १७ किलोमीटर की लाइन डाली जा रही है। इसके कार्य पूर्ण होने के बाद यहां पर एक्सप्रेस ट्रेन की आवाजाही बढ़ेगी। वहीं नीमच भी जक्शंन की श्रेणी में आ जाएगा। वहीं ट्रेनों की आवाजाही को देखते हुए नए प्लेटफार्म का निर्माण भी नीमच स्टेशन पर हो रहा है।

अब दिसंबर तक होगा पूरा कार्य
नीमच ट्रैक 133 किमी लंबे सेक्शन का दोहरीकरण 910 करोड़ रुपए से हो रहा है। इसमें 830 करोड़ रुपए सिविल वर्क जबकि 40 करोड़ रुपए सिग्नल, इलेक्ट्रॉनिक, इलेक्ट्रिफिकेशन सहित अन्य काम होंगे। जबकि चित्तौडगढ़़-शंभूपुरा-निम्बाहेड़ा-नीमच तक के तीन फेस वाले 57 किमी दोहरीकरण का काम तेजी से चल रहा है। रेलवे का टॉरगेट चित्तौडगढ़़-शंभूपुरा का दोहरीकरण मई 2019 तक का था, जबकि शंभूपुरा-निम्बाहेड़ा-नीमच दोहरीकरण नवंबर 2019 तक पूरा करने का है। जो कि बारिश के चलते अब दिसंबर तक पूरा होगा।