स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

यहां के अधिकारी मोबाइल एप के भरोसे सुधार रहे स्वच्छता रैंकिंग

Mukesh Sharaiya

Publish: Nov 18, 2019 13:00 PM | Updated: Nov 18, 2019 13:00 PM

Neemuch

'एप' पर शिकायत मिलते ही की जा रही 48 घंटों में हल

नीमच. नगरपालिका के इंजीनियर भले स्वच्छता रैंकिंग में नीमच को नंबर वन बनाने में पूरा योगदान नहीं दे रहे हों, लेकिन नपा प्रशासन ने सिटीजन फीडबैक से रैंकिंग सुधारने का प्रयास तेज कर दिया है। इसके लिए 'एमओएचयूए एप' के माध्यम से लोगों की शिकायतों को 48 घंटों के अंदर निराकरण किया जा रहा है। अप्रेल 19 से शुरू हुए एप के उपयोग में नीमच नगरपालिका देश में दूसरे स्थान पर है।
एप के माध्यम से 31 जनवरी तक होगी रैंकिंग
जिला मुख्यालय पर नगरपालिका सीमा में 25 हजार 541 मकान हैं। इन मकानों की संख्या के आधार पर भी स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 की रैंकिंग सुधारने का काम किया जा रहा है। 'एमओएचयूए एपÓ के माध्यम से लोगों की शिकायतें नगरपालिका अधिकारियों तक पहुंच रही हैं। इन शिकायतों का जल्द से जल्द निराकरण किया जा रहा है। यह सब एप के माध्यम से हो रहा है। स्वच्छता सर्वेक्षण में मिलने वाले अंक सिटीजन फीडबैक से भी निर्धारित होंगे। ऐसे में एप काफी मददगार साबित होगा। नीमच शहर की जनता काफी जागरूक है। अप्रैल 19 तक जहां 'एमओएचयूए एप' का उपयोग करने वालों की संख्या 13 हजार थी वहीं आज की स्थिति में नीमच शहर में करीब 17,400 के करीब लोग एप के माध्यम से अपनी समस्याओं का निराकरण कर रहे हैं। मकानों की संख्या के आधार पर 'एमओएचयूए एप' के उपयोग का प्रतिशत निर्धारित किया जाता है। इस मान से आज की स्थिति में करीब 71 प्रतिशत लोग एप का उपयोग कर रहे हैं। जो देश में दूसरे स्थान पर है। पहले स्थान पर इंदौर है। जहां मकानों की संख्या के मान से 74 प्रतिशत लोग 'एमओएचयूए एप' का उपयोग कर रहे हैं। इस एप के माध्यम से नपा अधिकारी 21 तरह की शिकायतों का निराकरण कर रहे हैं। 31 जनवरी तक 25 हजार का आंकड़ा यदि छू लिया तो सिटीजन फीडबैक में पूरी नंबर मिल जाएंगे। इससे रैंकिंग सुधारने में काफी मदद मिलेगी। नगरपालिका प्रशासन के पास एप का उपयोग बढ़ाने के लिए अभी भी ढाई महीने का समय शेष है। इस समयावधि में इसके पूरे प्रयास किए जाएंगे कि जनता अपनी शिकायतों के निराकरण के लिए अधिक से अधिक 'एमओएचयूए एप' का उपयोग करें।
रैंकिंग सुधारने का कर रहे प्रयास
स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 में बेहतर प्रदर्शन करने के हम हर संभव प्रयास कर रहे हैं। हमारा प्रयास है कि कुछ कारणों से पिछडऩे के बाद भी रैंकिंग में सुधार करें। इसके लिए लोगों की शिकायतों का मोबाइल 'एमओएचयूए एप' के माध्यम से 48 घंटे के अंदर निराकरण कर रहे हैं। लोगों के फीडबेक से स्वच्छता सर्वेक्षण की रैंकिंग में सुधार संभव है।
- विश्वास शर्मा, स्वास्थ्य अधिकारी नपा

[MORE_ADVERTISE1]