स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नीमच जिले की संभवनाथ गौशाला में डेढ़ दर्जन गायों ने तोड़ दिया दम

Subodh Kumar Tripathi

Publish: Aug 18, 2019 13:12 PM | Updated: Aug 18, 2019 13:12 PM

Neemuch

नीमच जिले की संभवनाथ गौशाला में डेढ़ दर्जन गायों ने तोड़ दिया दम

नीमच/मनासा. मनासा सावन रोड पर स्थित संभवनाथ गौशाला में शनिवार को करीब डेढ़ दर्जन से अधिक गायों की मौत देखरेख के अभाव में हो गई। ग्रामीणों ने बताया कि गायों के लिए पर्याप्त मात्रा में चारा पानी की भी व्यवस्था नहीं थी, वहीं पिछले तीन दिनों से पानी की कुंडियां भी खाली पड़ी थी, ऐसे में कई गायें काफी कमजोर नजर आ रही थी तो कुछ को कीड़े लग चुके थे। ऐसे में देखरेख के अभाव में गायों ने दम तोड़ दिया, आश्चर्य की बात तो यह है कि जो शेष गायें बची है वे भी काफी अस्वस्थ हैं।


मनासा रोड़ पर सावन के समीप संभव नाथ गौशाला में अज्ञात कारणों से करीब १५ से 20 गायों की मौत हो गई। इतनी ही गायें बीमार होकर मरने की कगार पर हैं। क्योंकि उनकी देखरेख बराबर नहीं हो रही है। ग्रामीणों ने बताया कि गौशाला के पास करीब १५ लाख से अधिक की पंूजी होते हुए भी जिम्मेदार गायों की देखभाल नहीं कर पा रहे हैं।
डेढ़ दर्जन के करीब गायों की मौत होने पर काफी संख्या में ग्रामीण एकत्रित हो गए, और उन्होंने अपना विरोध जताया। सूचना मिलने पर राष्ट्रीय गौरक्षा वाहिनी की प्रदेश प्रभारी मेहरुन निशा खान गौशाला पहुंची और मौके पर जाकर देखा तो गौशाला की हालत बहुत खराब नजर आई। पूरे गौशाला परिसर में कीचड़ ही कीचड़ फैला था। वहीं चहुं ओर गायें कहीं मृत तो कहीं काफी बीमार ओर कमजोर नजर आ रही थी। कुछ मृत गायों को कई दिनों तक नहीं उठाने से कीड़े तक पड़ गए थे। वे सडऩे लगी थी। वहीं गौशाला संचालक कुछ बोलने की स्थिति में नहीं थे। बस इतना बोले की क्या करें मौसम की वजह से गायों की मौत हो रही है। जबकि गायें गौशाला संचालक और समिति की लापरवाही के कारण मर रही है। अगर उनकी समय पर देखभाल हो तो निश्चित ही गायों की मौत नहीं हो। गौशाला संचालक की लापरवाही व असन्तुष्टि पूर्ण बात सुनने पर प्रभारी मेहरून निशा ने नीमच एसडीएम को फोन लगाकर स्थिति से अवगत कराया। जिस पर मौके पर चिकित्सकों की टीम भी पहुंची और पुलिस व तहसीलदार अजय हिंगे भी मौके पर पहुंचे, वहीं नीमच सिटी थाने से उपनिरीक्षक केएल तिवारी सहित पुलिस की टीम ने मौके पर पंचनामा बनाकर मृत गायों का पीएम करवाया।


ग्रामीणों ने बताया की हम लोग फ्री में गौशाला में मुरम डालना चाहते थे, ताकि बारिश में कीचड़ नहीं हो, लेकिन हमें नहीं डालने दिया गया। ऐसे में भयंकर बारिश में कीचड़ और बारिश के कारण गायें बीमार भी हुई और मरने लगी हैं। क्योंकि पर्याप्त मात्रा में चारा पानी की भी व्यवस्था नहीं है। राष्ट्रीय गौ रक्षा वाहिनी प्रदेश प्रभारी इस मामले में कलेक्टर को आवेदन देकर अवगत करवाएगी। साथ ही इतनी संख्या में गौ माता कैसे मरी जांच करवा कर दोषियों पर कार्रवाई की मांग करेगी।


सूचना मिलने पर तुरंत तहसीलदार को मौके पर भेज दिया था। पीएम रिपोर्ट आने पर गायों की मौत के कारणों का पता चलेगा। पूरी रिपोर्ट आने पर अगर किसी प्रकार की लापरवाही पाई जाती है तो संबंधित पर नियमानुसार कार्रवाई करेंगे।
-एसएल शाक्य, एसडीएम, नीमच नीमच जिले की