स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Gandhi Sagar Dam डाक्टर लगे थे बाढ़ पीडि़त के उपचार में एसडीएम ने आकर मार दी लात!

Mukesh Sharaiya

Publish: Sep 18, 2019 22:30 PM | Updated: Sep 18, 2019 22:30 PM

Neemuch

डाक्टर और एसडीएम के बीच हो सकती थी हाथापाई

नीमच. रामपुरा में जहां चिकित्सक बाढ़ पीडि़त का इलाज करने में व्यस्त थे, वहीं मनासा एसडीएम का यह देखकर पारा चढ़ गया कि डाक्टर उन्हें विश करने के लिए खड़ा क्यों नहीं हुआ। गुस्से में कुर्सी पर लात तो मारी ही। साथ ही डाक्टर को धक्का भी दे मारा।

गंभीर मरीज को देख रहे थे डा. पटेल
प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि रामपुरा में मंगलवार सुबह 10 बजे पोरवाल धर्मशाला में संचालित स्थाई स्वास्थ्य शिविर में डा. सुरेश पटेल एक गंभीर मरीज को देख रहे थे। मरीज को रैफर करने के लिए पेपर तैयार कर रहे थे। इस बीच अचानक एसडीएम अरविंदङ्क्षसह माहौर मौके पर पहुंचे। डा. पटेल ने उन्हें खड़े होकर सम्मान नहीं दिया तो एसडीएम को गुस्सा आ गया। उन्होंने पहले जिस कुर्सी पर डा. पटेल बैठे थे उस कुर्सी को लात मारी। इसके बाद डा. पटेल को धक्का दिया। इसके बाद दोनों आपस में भिड़ गए। मौके पर मौजूद लोगों ने बीच बचाव किया अन्यथा हाथापाई की नौबत आ गई थी। जैसे तैसे विवाद शांत हुआ तो डाक्टर शिविर छोड़कर जाने की बात कह दी। इसपर भी लोगों ने उन्हें मरीजों का हवाला दिया। इसके बाद डा. पटेल ने मरीजों को देखना शुरू किया। प्रत्यक्षदर्शियों ने पूरी घटना को सही बताया।
विश नहीं किया तो दे दिया धक्का
पोरवाल धर्मशाला में लगे शिविर में मैं सीरियस मरीज देख रहा था। इस बीच एसडीएम अरविंदसिंह माहौर वहां पहुंचे। उन्होंने कहा खड़े क्यों नहीं हुए और धक्का दे दिया। केवल एसडीएम को विश नहीं करने पर उन्होंने मुझे धक्का दे दिया।
- डा. सुरेश पटेल, पीडि़त चिकित्सक
शिकायत नहीं मिली
रामपुरा में लगे स्वास्थ्य शिविर में डा. सुरेश पटेल के साथ एसडीएम द्वारा विवाद किए जाने की जानकारी मिली है। इस संबंध में अब तक डाक्टर ने कोई शिकायत नहीं की है। जब तक शिकायत नहीं मिलेगी कार्रवाई नहीं कर सकते।
- डा. एसएस बघेल, सीएमएचओ
डाक्टर से रामपुरावासी अच्छी तरह परिचित हैं
मुझे पर जो आरोप लगाए गए हैं उनकी बात आप छोडि़ए। डाक्टर की गतिविधियों के बारे में रामपुरा के रहवासियों से पूछें। पिछले 10 साल से डा. पटेल रामपुरा में हैं। उनकी दैनिक गतिविधियों से रामपुरा का हर व्यक्ति परिचित है। जो भी डा. पटेल के बारे जानकारी रखता है। इससे अधिक मुझे और कुछ नहीं कहना है।
- अरविंद माहौर, एसडीएम मनासा
डाक्टर ने नहीं की शिकायत
घटना मंगलवार सुबह की है तो जब मैं और कलेक्टर स्वास्थ्य शिविर में पहुंचे थे तब डाक्टर पटेल ने घटना के संबंध में कुछ नहीं कहा। डाक्टर की छोड़े वहां मौजूद अन्य लोगों ने भी इस बारे में शिकायत नहीं की। बुधवार को फिर रामपुरा जाऊंगा तब डा. पटेल से घटना के संबंध में जानकारी लूंगा।
- विनयकुमार धोका, अपर कलेक्टर