स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

FSSAI सिंथेटिक दूध की आशंका में रात २ बजे की कार्रवाई

Mukesh Sharaiya

Publish: Sep 19, 2019 13:12 PM | Updated: Sep 19, 2019 13:12 PM

Neemuch

मिलावटखोरों के खिलाफ कार्रवाई में प्रशासन हुआ सख्त

नीमच. मिलावटखोरों के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान के तहत मंगलवार देर रात खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग ने टैंकर से परिवहन हो रहे दूध पर कार्रवाई की। टैंकर में सिंथेटिक दूध होने की आशंका में जांच के लिए नमूना लिया गया।

कटर की मदद से काटना पड़े नट
मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी संजीवकुमार मिश्रा ने बताया कि मंगलवार रात चौकन्ना बालाजी क्षेत्र से गुजरते समय दूध टैंकर क्रमांक एमपी 13-जीए 3470 को रोका। चालक प्रहलाददास पिता कारूदास बैरागी से पूछताछ की। चालक गोलमोल जवाब दे रहा था। इस कारण आशंका बढ़ गई। जांच के लिए दूध का नमूना लेने के लिए कटर मशीन की मदद से नट काटना पड़े। इस तरह की व्यवस्था से भी आशंका को ओर बल मिला। पूछताछ में चालक ने पहले नयागांव और फिर सोंदड़ा राजस्थान से दूध लेकर आने की बात कही। साथ ही जग्गाखेड़ी मंदसौर स्थित सूरज मिल्क एंड मिल्क प्रोडक्ट के लिए दूध लेकर जाना बताया। इस फर्म द्वारा रियल दुग्दम ब्रांड का दूध भी तैयार किया जाता है। फर्म संचालक का नाम राजेश पिता ईश्वरलाल पगानी बताया। मिश्रा ने बताया कि खाद्य सुरक्षा एवं प्रशासन कमिश्नर ने प्रदेश के सीमावर्ती क्षेत्रों में सिंथेटिक दूध का अधिक परिवहन होने की आशंका व्यक्त की थी। साथ ही उन्होंने इसपर सतत कार्र्रवाई करने के निर्देश भी दिए थे। इसी आधार पर दूध टैंकर पर कार्रवाई की गई। टैंकर में करीब साढ़े चार हजार लीटर दूध भरा था। टैंकर में गाय-भैंस मिश्रित दूध था। दूध का नमूना लेकर जांच के लिए राज्य प्रयोगशाला भोपाल भेजा गया है।