स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नीति आयोग प्रोजेक्ट साथ सदस्य यहां क्यों पहुंची आचनक

Subodh Kumar Tripathi

Publish: Sep 22, 2019 13:01 PM | Updated: Sep 22, 2019 13:01 PM

Neemuch

नीति आयोग प्रोजेक्ट साथ सदस्य यहां क्यों पहुंची आचनक

नीमच. नीति आयोग के प्रोजेक्ट 'साथ की सदस्य सुरभी पोरवाल ने नीमच जिले के विभिन्न विद्यालयों का निरीक्षण निर्धारित गाईड लाइन के अनुसार किया। जैसे ही वे एक के बाद एक विद्यालय पहुंची तो विद्यालय स्टॉफ भी अचानक आई नए अधिकारी को देखकर हैरान रह गए। उन्होंने पहले निरीक्षण किया, इसके बाद शिक्षा से जुड़े जिला अधिकारियों की बैठक लेकर उन्हें शिक्षा की गुणवत्ता सुधारने संबंधी दिशा निर्देश दिए।


नीति आयोग के प्रोजेक्ट साथ की सदस्य सुरभी पोरवाल पहली बार जिले के विद्यालयों का निरीक्षण करने आई। उनके साथ सहायक परियोजना समन्वयक केएम सौलंकी भी साथ रहे। पोरवाल ने विद्यालयों में पहुंचकर दक्षता उन्नयन कार्यक्रम, ब्रीज कोर्स, एक शाला एक परिसर, शैक्षणिक गुणवत्ता, बच्चों की उपस्थिति इन पांचों बिंदुओं पर निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान जहां दो विद्यालयों में स्थिति सामान्य नजर आई। वहीं एक विद्यालय में बच्चों की उपस्थिति से लेकर वर्क बुक की जांच तक सभी कमजोर नजर आने पर नाराजगी व्यक्त की। इस संबंध में दस दिन में सुधार के निर्देश दिए गए। अन्यथा नियमानुसार कार्रवाई करने के निर्देश दिए।


इन विद्यालयों का किया निरीक्षण
प्रोजेक्ट साथ सदस्य पोरवाल ने हायर सेकेंडरी स्कूल अठाना, प्राथमिक विद्यालय अठाना और माध्यमिक विद्यालय तुंबा का निरीक्षण किया, इस दौरान उन्होंने बच्चों की कॉपियों का निरीक्षण, बच्चों का उपस्थिति रजिस्टर, शिक्षकों द्वारा जांची गई वर्क बुक आदि पर विशेष ध्यान दिया। जिसमें अठाना के दोनों विद्यालयों की स्थिति संतोषजनक पाई गई। प्रावि अठाना में बेहतर विद्यालय संचालन देखकर उन्होंने शाला प्रधान सारिका सकवाडिय़ा की सराहना की। लेकिन माध्यमिक विद्यालय तुंबा में उन्हें कई कमियां नजर आई। जिसमें बच्चों की उपस्थिति कम मिलना, वर्क बुक की पूरी जांच नहीं होना आदि नजर आया। जिसके चलते उक्त विद्यालय में दस दिन में सुधार के निर्देश दिए गए।



प्रोजेक्ट साथ सदस्य पोरवाल के एक दिवसीय निरीक्षण के बाद जाने से पहले एक बैठक हुई। जिसमें जिला शिक्षा अधिकारी केएल बामनिया, जिला परियोजना समन्वयक प्रलयकुमार उपाध्याय, डीपीसी डॉ पीएस गोयल, तीनों विकासखंड के बीओ, बीआरसी, एपीसी, डाईट प्राचार्य आदि उपस्थित रहे। इस बैठक को डिस्ट्रिक प्रोजेक्ट मैनेजमेंट यूनिट की बैठक कहा जाता है। जिसमें शिक्षा का के स्तर को बेहतर बनाने पर विचार और चर्चा की गई।


. जिले के विद्यालयों का प्रोजेक्ट साथ की सदस्य ने निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान जिस विद्यालय में कमी पाई गई, उसमें शीघ्र सुधार के निर्देश दिए हैं। वहीं शैक्षणिक गुणवत्ता में बेहतर सुधार के लिए डीसीएमयु की बैठक हुई। जिसमें इस साल सभी बिंदुओं पर शत प्रतिशत सफलता का लक्ष्य रखा गया है।
-केएम सौलंकी, सहायक परियोजना समन्वयक, जिला शिक्षा केंद्र नीमच