स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अवैध हथियार रखने का आरोपी करणी सेना प्रदेश अध्यक्ष गिरफ्तार

Chandraprakash Sharma

Publish: Sep 17, 2019 17:17 PM | Updated: Sep 17, 2019 17:28 PM

Neemuch

जीवनसिंह राठौर ने रतलाम जिले के पिपलौदा थाने पर किया सरेंडर

रतलाम/पिपलौदा। नगालैंड राज्य के नाम से फर्जी लाइसेंस लेने और इसी आधार पर अवैध तरीके से हथियार रखने के आरोपी करणी सेना के प्रदेश अध्यक्ष जीवनसिंह राठौर ने सोमवार की शाम करीब साढ़े तीन बजे पिपलौदा थाने पर टीआई प्रतापसिंह भदौरिया के सामने खुद को सरेंडर कर दिया। सरेंडर करने के दौरान करीब आधा दर्जन साथी भी पुलिस थाने तक आए थे। उनके साथ आए सभी लोगों को बाहर ही रोक दिया गया और राठौर को सरेंडर करवा लिया गया। बाद में उनकी गिरफ्तारी की सूचना मिलते ही करणी सेना के पदाधिकारी थाने के सामने एकत्रित हो गए थे।
आठ दिन से फरार था आरोपी
पुलिस ने 9 सितंबर को फर्जी लाइसेंस से अवैध तरीके से हथियार रखने के मामले का खुलासा 9 सितंबर को किया था। इस दौरान पुलिस अधीक्षक ने चार आरोपियों को पेश भी किया था जिन्हें गिरफ्तार किया गया था। पांचवा आरोपी करणी सेना का प्रदेश अध्यक्ष जीवनसिंह राठौर पहले से ही फरार था। माना जा रहा है कि इंदौर में 16 सितंबर को हुए करणी सेना के प्रदेश सम्मेलन के बाद आरोपी की गिरफ्तारी या सरेंडर करने के कयास लगाए जा रहे थे। सोमवार की शाम को जीवनसिंह ने पिपलौदा थाने पर जाकर सरेंडर कर दिया। इस मामले की जांच कर रहे सीएसपी जावरा अगम जैन भी थाने पहुंचे। थाना प्रभारी प्रतापसिंह भदौरिया ने बताया कि विधानसभा चुनाव में हथियार जमा होने के बाद से लाइसेंस संदेहास्पद होने के कारण जांच चल रही थी। चारों आरोपितों को नगालैंड ले जाया गया है।
नाटकीय घटनाक्रम में हुआ सरेंडर
रविवार को इंदौर में करणी सेना के बड़े प्रदर्शन में शामिल होने के बाद ही पुलिस की निगाह जीवनसिंह राठौर पर थी। पुलिस को भी इस बात का अंदाजा नहीं था कि दोपहर बाद जीवनसिंह सरेंडर कर देगा। अचानक ही दोपहर बाद राठौर ने पिपलौदा पुलिस थाने पहुंंच कर समर्पण कर दिया। समर्पण की जानकारी मिलने के बाद लगातार करणी सेना के पदाधिकारियों का नगर में आना प्रारंभ हो गया था। शाम तक कई पदाधिकारी पिपलौदा में पहुंच गए थे। कई लोग थाने पर भी आए थे।
यह जब्त हुआ था चार आरोपियों से
पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी ने 9 सितंबर को पत्रकार वार्ता में जिन चार आरोपियों को फर्जी लाइसेंस और हथियार के मामले में गिरफ्तार किया था उनसे हथियार भी बरामद हुए थे। पुलिस गिरफ्त में आए आरोपियों में कमरूद्दीन से 1 पिस्टल व 18 कारतूस व लाइसेंस, राजेंद्र से 1 पिस्टल व 19 कारतूस व लाइसेंस, मुकेश प्रजापत से 1 पिस्टल 0.32 बोर की और 17 कारतूस, अविनेंद्रसिंह से 1 पिस्टल और 11 कारतूस जब्त किए है। इसके साथ ही जीवनसिंह की भी पिस्टल पुलिस ने जब्ती में ली थी।
कल कोर्ट में पेश करेंगे
फर्जी लाइसेंस और अवैध हथियारों के मामले में फरार चल रहे एक आरोपी जीवनसिंह राठौर ने पिपलौदा थाने पर सरेंडर कर दिया है। हमने उसे गिरफ्तार कर लिया है और मंगलवार को कोर्ट मे पेश करके उसका रिमांड मांगेंगे।
- गौरव तिवारी, पुलिस अधीक्षक, रतलाम