स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

1 लाख 94 हजार को मिले गोल्डन कार्ड, 23 को मिलेगी यह सौगात

Subodh Kumar Tripathi

Publish: Sep 21, 2019 13:34 PM | Updated: Sep 21, 2019 13:34 PM

Neemuch

1 लाख 94 हजार को मिले गोल्डन कार्ड, 23 को मिलेगी यह सौगात

नीमच. जिले में अभी तक निजी और शासकीय सेंटरों से मिलाकर करीब 1 लाख 94 हजार हितग्राहियों के गोल्डन कार्ड बन चुके हैं। जिसमें से जिला चिकित्सालय के माध्यम से करीब 1235 से अधिक गंभीर बीमारियों के मरीजों का उपचार प्रदेश के विभिन्न चिकित्सालयों में नि:शुल्क हुआ है। चूकि इस योजना के तहत अधिक से अधिक हितग्राही लाभ लें, इसलिए 23 सितंबर को भोपाल से विशेष चिकित्सकों की टीम आ रही है। जो जिले के हार्ट, किडनी, कैंसर आदि गंभीर बीमारियों से पीडि़त मरीजों की जांच करके उन्हें संबंधित हॉस्पीटल में रेफर करेगी।


आयुष्मान भारत निरामयम मध्यप्रदेश के तहत जागरूकता पखवाड़े का आयोजन किया जा रहा है। 30 सितंबर तक चलने वाले इस पखवाड़े के अंतर्गत शुक्रवार को भव्य जागरूकता रैली निकाली गई। जो जिला चिकित्सालय परिसर से प्रारंभ होकर शहर के प्रमुख मार्गों से होते हुए पुन: जिला चिकित्सालय परिसर पहुंचकर सम्पन्न हुई। रैली को मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एसएस बघेल द्वारा हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया। जिसमें ज्ञानोदय नर्सिंग कॉलेज के विद्यार्थियों के साथ ही आशा कार्यकर्ताओं ने काफी संख्या में भाग लिया। इस अवसर पर नारेबाजी करते हुए निरामयम योजना के बारे लोगों को जागरूक किया गया।


आयुष्मान भारत योजना का एक वर्ष पूर्ण होने पर आयुष्मान भारत पखवाड़ा मनाया जा रहा है। इस अवसर पर सिविल सर्जन बीएल बोरीवल, डॉ संगीता भारती, आयुष्मान भारत जिला समन्वयक अजय जोनवाल, आईईसी प्रभारी रामलाल सिसोदिया और स्टॉफ उपस्थित रहा। आयुष्मान भारत योजना के जिला समन्वयक अजय जोनवाल ने बताया कि २३ सितंबर को जिला चिकित्सालय परिसर में एक विशाल शिविर का आयोजन किया जाएगा। जिसमें सेंट्रल और सिद्धांता हास्पीटल भोपाल के चिकित्सकों द्वारा विभिन्न प्रकार की गंभीर बीमारियों से पीडि़त मरीजों की जांच कर उन्हें संबंधित चिकित्सालयों में रेफर किया जाएगा। चूकि कई गंभीर बीमारियां ऐसी है जिनकी यहां जांच और उपचार संभव नहीं है। ऐसे ही गंभीर बीमारियों के मरीजों को चिन्हित कर उन्हें रेफर करने के लिए इस शिविर का आयोजन किया जा रहा है। इसलिए अधिक से अधिक मरीज शिविर में पहुंचकर लाभ लें।