स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

13 वर्षीय बालिका को सौंपा जन्मदाता माता-पिता को

Virendra Singh Rathore

Publish: Jul 18, 2019 13:06 PM | Updated: Jul 18, 2019 13:06 PM

Neemuch

13 वर्षीय बालिका को सौंपा जन्मदाता माता-पिता को

नीमच। कुकडेश्वर के कुण्डला गांव में 13 वर्षीय बालिका को रखने के लिए तीन रिश्तेदार अपना हक जताकर सामने आए। इस पर बुधवार को बालकल्याण समिति ने एेसी स्थिति में जन्मदाता माता-पिता के सुपुर्द बालिका को किया है। वहीं आदेशित किया है। बालिका को लेने के लिए एक ज्यादा हकदार सामने की स्थिति में प्रकरण को न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं।

 

यह है मामला
13 वर्षीय बालिका उसकी बुआ रूकमणी बाई पति भूरालाल नायक निवासी कुंडला ने अपने भाई मंदसौर निवासी श्यामलाल प्रजापति से छह से सात माह की बच्ची लालन-पालन के लिए ली थी। वह निसंतान थे। रूकमणी का पति शराब का आदी है। जिसके चलते पूर्व में वह बीमार भी हुआ था। इस पर उसकी मां से रूकमणी ने 50 हजार रुपए उधार लेकर उसकी बीमारी में लगाए थे। भूरालाल शराब पीकर पत्नी से मारपीट करता था। इसके चलते रूकमणी ने पति को छोड़कर अन्य से विवाह कर लिया। वहीं बच्ची को उसके माता-पिता के सुपुर्द कर आई थी। स्कू ल चलने के दौरान भूरालाल बच्ची को वापस ले आया था। भूरालाल और उसकी पत्नी रूकमणी के बीच पचास हजार रुपए की बात पर भी विवाद चल रहा था। जिस पर रूकमणी ने उसके इलाज में 40 हजार रुपए खर्च करने की बात कही। वह अब उसे बाकी 20 हजार रुपए भी देने को तैयार है। वह राजी हो गया था, उसके बाद भी फिर मुकर गया और नहीं मान रहा था। बच्ची के माता-पिता यूं चितिंत है कि बुआ रूकमणी को बच्ची लालन-पालन के लिए दी थी, जब उसका रिश्ता ही भूरालाल से नहीं है तो वह उसके भरोसे बच्ची को कैसे छोडे़ंगे। घर पर सिर्फ 80 साल की बूढ़ी दादी है। इसीलिए वह बेटी को अपने साथ रखना चाहते हैं। मामला गंभीर और पेचीदा होने पर पुलिस ने बच्ची को बाल कल्याण समिति के सुपुर्द कर दिया था।

 

न्यायालय के समक्ष भेजा प्रकरण
कुकडेश्वर बच्ची के मामले में बुधवार को सुनवाई की गई। इस दौरान एक से अधिक दावेदार बन रहे थे। जिसके चलते बच्ची को अस्थाई रूप से उसके जन्मदाता माता-पिता के सुपुर्द कर दिया है। वहीं प्रकरण को न्यायालय के समक्ष भेजा है। वहां से जो निर्णय होगा। उसके अनुसार ही पालना होगी।
- प्रवीण शर्मा, अध्यक्ष बाल कल्याण समिति जिला नीमच।