स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

national loak adalat : एक साथ रहने रहने तैयार हो गए 18 जोड़े

Sanjay Tiwari

Publish: Sep 15, 2019 00:14 AM | Updated: Sep 15, 2019 00:14 AM

Narsinghpur

एक साथ रहने रहने तैयार हो गए 18 जोड़े

नरसिंहपुर। नेशनल लोग अदालत में एक ओर जहां जिलेभर में बैंक ऋण, विवाद आदि मामलों में गठित खण्डपीठों द्वारा दोनों पक्षकारों के बीच बातचीत कर आपसी रजामंदी से मामले निपटाए गए। वहीं पति-पत्नी के अलग हो जाने के कारण जो परिवार बिखर गए थे और दम्पति विछड़ गए थे उनको भी आमने-सामने बैठाकर विछडऩे के विवाद को लेकर बात कराई गई और आपसी सहमति से अलग-अलग हुए जोड़ों का पुनर्मिलन कराया गया जिससे एक बार फिर वे एक ही छत के नीचे एक-दूसरे के साथ रहने तैयार हो गए।


नेशनल लोग अदालत में अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण आरके नागपुरे की अध्यक्षता में शनिवार को नेशनल लोक अदालत का आयोजन किया गया। जिसमें आपसी सहमति से मामलों का निराकरण किया गया। इस अवसर पर जिला एवं सत्र न्यायाधीश आरके नागपुरे, प्रधान न्यायाधीश कुटुम्ब न्यायालय सुदीप कुमार श्रीवास्तव, विशेष न्यायाधीश गजेन्द्र सिंह, कलेक्टर दीपक सक्सेना, पुलिस अधीक्षक गुरूकरण सिंह एवं जिला अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष चौधरी जोगेन्द्र सिंह द्वारा सरस्वती पूजन के साथ कार्यक्रम का प्रारंभ किया गया।


जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा गठित खंडपीठ क्रमांक 1 प्रधान न्यायाधीश, कुटुम्ब न्यायालय नरसिंहपुर के न्यायालय में पति-पत्नी के सुलह के मामले रखे गए। इसमें 18 मामलों में पति-पत्नी द्वारा न्यायालय की समझाइश पर पुनर्मिलन स्वीकार कर साथ-साथ रहना व्यक्त किया और न्यायालय में ही अपने परिवार के साथ रहे।


इस अवसर पर जिला एवं सत्र न्यायाधीश आरके नागपरे ने कहा कि लोक अदालत से जहां आपसी सहमति से मामले निपटते हैं वहीं पुन: हमेशा के लिए पक्षकारों के बीच रिश्ते बन जाते हैं। कार्यक्रम का संचालन जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अपर जिला जज सचिव संजय कुमार गुप्ता ने करते हुए लोक अदालत के उद्देश्य और प्राधिकरण के कार्यों पर प्रकाश डाला।