स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

न्यायाधीशों ने कहा- यहां बच्चों का बैठना मुश्किल, रहे तो सब पड़ जाएंगे बीमार

Shiv Pratap Singh

Publish: Aug 08, 2019 12:04 PM | Updated: Aug 08, 2019 12:04 PM

Narsinghpur

छात्रावास की दयनीय हालात देख जिला एवं सत्र न्यायाधीश आरके नागपुरे व अन्य न्यायाधीशों ने छात्रावास का निरीक्षण किया

नरसिंहपुर. विशेष आवश्यकता वाले बच्चों के लिए संचालित सीडब्लूएसएन छात्रावास में बुधवार को विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में जिला एवं सत्र न्यायाधीश आरके नागपुरे, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सचिव न्यायाधीश अजयकुमार चौहान व न्यायाधीश कमलेश साहू पहुंचे। यहां कार्यक्रम के लिए निर्धारित कमरे में जब न्यायाधीश पहुंचे तो कमरे की हालत देख चिंता व्यक्त की। कमरे में छप्पर जगह-जगह से टूटी हुई थी। पानी टपक रहे कमरे में बच्चों को फर्श पर दरी बिछाकर बैठाया गया था। अधिकांश कमरे का फर्श लगभग गीला था। छात्रावास की दयनीय हालात देख जिला एवं सत्र न्यायाधीश आरके नागपुरे व अन्य न्यायाधीशों ने छात्रावास का निरीक्षण किया। जिस हॉल में बच्चों के लिए पलंग और बिस्तर रखा गया था वहां पानी टपक रहा था। फर्श पर छप्पर टूटकर गिरने के कारण सीमेंट फैली हुई थी। न्यायाधीशों ने छात्रावास की दुर्दशा पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि यहां बच्चों का बैठना और रहना मुश्किल है। ऐसे हालात में बच्चे रहेंगे तो बीमार पड़ जाएंगे। न्यायाधीश अजयकुमार चौहान ने कहा कि बच्चों की इस गंभीर समस्या को लेकर कलेक्टर सहित संबंधित अधिकारियों से चर्चा की जाएगी और जल्द से जल्द समस्याओं का निराकरण कराया जाएगा।
जहां सूखा होता है वहां सुला देते हैं...
छात्रावास वार्डन बादल ने बताया कि अधिकांश कमरों में पानी टपक रहा है और सीलिंग से सीमेंट टूटकर गिर रही है। सभी संंबंधित अधिकारियों को पूर्व में भी समस्या से अवगत कराया जा चुका है। वार्डन ने बताया कि बच्चों की दर्ज संख्या यहां ४७ है। रात के समय जिस कमरे में सूखा होता है वहां बच्चों को सुला दिया जाता है।
किचिन से लेकर सब बदहाल
हॉस्टल का किचिन, हाल, बरामदा, टॉयलेट सहित सभी कक्ष बदहाल है।न्यायाधीशों ने पूरे हॉस्टल का निरीक्षण किया और दुर्दशा पर चिंता व्यक्त की। हॉस्टल कर्मचारियों ने जब समस्या बताई तो न्यायाधीशों ने आश्वासन दिया कि जल्द ही जल्द सभी समस्याएं दूर कराई जाएंगी।
ठंड में दिया पैसा, बारिश में कर रहे सुधारकार्य
डीपीसी एके कोष्टी ने बताया कि छात्रावास में सुधारकार्य के लिए 5 लाख रुपए से अधिक की राशि नगरपालिका को फरवरी माह में जारी की गई थी। इस राशि से छात्रावास में सुधारकार्य कराए जाने थे, लेकिन नपा ने यह काम अब बारिश में शुरू किया है। इधर सीएमओ किशनसिंह ठाकुर ने बताया कि अप्रैल माह में राशि मिली और पत्र बाद में प्राप्त हुआ, जिसके कारण कार्य में देरी हुई है।