स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शिष्यों के चरित्र में चांदनी बिखेरते हैं सदगुरू देव

Amit Sharma

Publish: Jul 17, 2019 13:05 PM | Updated: Jul 17, 2019 13:05 PM

Narsinghpur

शिष्यों के चरित्र में चांदनी बिखेरते हैं सदगुरू देव

शिष्यों के चरित्र में चांदनी बिखेरते हैं सदगुरू देव
आस्था और भक्तिभाव के साथ मनाई गई गुरूपूर्णिमा
नरङ्क्षसहपुर- गुरू के प्रति शिष्य की आस्था और भक्ति का पर्व गुरूपूर्णिमा श्रद्धा और भक्तिभाव के साथ समूचे क्षेत्र में मनाया गया। इस मौके पर जायेगा। इस मौके पर क्षेत्र के प्रमुख सिद््धपीठों पर विशेष पूजन अर्चन और भंडारा के साथ गुरूस्मरण पाठ का आयोजन किया गया। जहां शिष्यों ने पहुंचकर गुरू का पूजन अर्चन किया।
सबसे बड़ा उपहार है गुरूकृपा
फो
महावीर दिगम्बर जैन मंदिर करेली में गुरु पूर्णिमा महोत्सव का आयोजन किया गया। जिसके अंतर्गत प्रात: काल मंगलाचरण, चित्र अनावरण,दीप प्रज्ज्वलन,शास्त्र अर्पण,गुरुजी की महापूजन, आरती के साथ मुनिराजों का पाद प्रक्षालन किया गया । इस अवसर पर मुनिश्री भाव सागर जी महाराज ने कहा कि आज गुरु पूर्णिमा का दिन है,गुरु को शिष्य की प्राप्ति हुई थी, शिष्य को गुरु की प्राप्ति हुई थी। गुरु की कृपा बड़ी दुर्लभता से प्राप्त होती है। गुरुजी सिद्ध भी बन जाए तो हमें आस्था श्रद्धा के माध्यम से मार्गदर्शन देते रहें। उन्होने बताया कि गुरु के चरणों में शांति की प्राप्ति होती है, गुरु की कृपा से जीवन में सुमंगल आ जाता है। गुरु कृपा सबसे बड़ा उपहार है। गुरु श्वास श्वास में बसे होते हैं। मुनिश्री अनंतसागर जी ने कहा कि इस दिन गुरु की प्राप्ति हुई थी जो चरित्र में चांदनी को बिखेरता है उसी के अंदर गुरुता आती है।मुनिश्री विमल सागर जी ने कहा कि जो गुरु स्व और पर के कल्याण में निहित रहते हैं वह श्रेष्ठ गुरु कहलाते हैं। सिद्धियों का मूल गुरु होते हैं। गुरुओं के वचन मंत्र का कार्य करते हैं।
शिष्यों ने पखारे गुरू के पांव

ब्रह्मा की तपोभूमि, नर्मदा तट, रेत घाट बरमान स्थित ब्रम्हलीन श्री श्री 1008स्वामी रामलखन दासजी महाराज की तपोस्थली श्रीशारदा चंद्रमौलेश्वर मंदिर में गुरु पूर्णिमा श्रद्धा पूर्वक धूमधाम से मनाया गया। इस अवसर पर मंदिर में सुबह 7.30 बजे से विधान सभा अध्यक्ष नर्मदा प्रसाद प्रजापति और शिष्य परिवार द्वारा सर्वप्रथम ब्रह्मलीन संत श्री श्री 1008 महंत गुलाम दास जी एवं परम तपस्वी संत श्री श्री 1008महंत स्वामी राम लखन दास जी का पादुका पूजन किया गया। तदोपरांत पावन अवसर पर गुरु स्मरण पाठ का आयोजन किया गया ।वहीं भक्तों के लिए भंडारे का आयोजन किया गया। जिसमें बड़ी संख्या में शिष्य परिवार और भक्तजनों ने सहभागिता दी।
हीरापुर में हुआ पादुका पूजन

तेंदूखेड़ा के नजदीक स्थित हीरापुर ग्राम के श्रीकैलाश कुटी धाम,राजराजेश्वरी मंदिर में गुरु पूर्णिमा पर्व धूमधाम से मनाया गया। इस मौके पर शिष्यों द्वारा यहां विराजमान सदगुरूदेव स्वामी षण्मुखानंद जी महाराज का पादुका पूजन किया गया। इसके पूर्व प्रात: काल विशेष अनुष्ठान और स्वामी जी महाराज द्वारा गुरु पूजन किया गया।
सांई भक्तों ने निकाली शोभायात्रा

गुरू पूर्णिमा पर तेंदूखेड़ा नगर में सांई भक्तों ने भव्य शोभायात्रा निकाली। जो नगर के प्रमुख मार्गो पर भ्रमण करते हुए सांई मंदिर पहुंची। जहां मंदिर परिसर में हवन, पूजन किया गया। यहां दिन भर सांई भक्तों का मेला लगा रहा। इस मौके पर प्रसाद वितरण भी किया गया।

महिला पतंजलि योग समिति ने मनाई गुरु पूर्णिमा

महिला पतंजलि योग समिति व गायत्री शक्तिपीठ के संयुक्त तत्वाधान में स्थानीय गायत्री मंदिर यज्ञशाला में गुरूपूर्णिमा का पर्व हर्षोल्लास से मनाया गया। इस अवसर पर समस्त साधकों व कार्यकर्ताओं के द्वारा गुरुदेव की सूक्ष्म उपस्थिति में विद्यारम्भ हेतु शुभ मुहूर्त में नौनिहालों द्वारा पट्टिका पूजन कराई गई। जिसके पश्चात पुनीत हवन कर पौधरोपण का कार्यक्रम भी किया गया। इस आयोजन में आचार्य रामशंकर वर्मा के माध्यम से सभी धार्मिक क्रियायें सम्पन्न कराई गई व पतंजलि योग समिति की तरफ से तहसील प्रभारी इंदु सिंह, मंजू श्रीवास्तव,कविता गढेकर,योग शिक्षिका भारती कौरव एवं उषा सोनी के अलावा समस्त गायत्री परिवार भी उपस्थित रहा । हवन.पूजन के बाद शांति पाठ, भजन,क्षमा प्रार्थना के साथ महोत्सव का समापन किया गया ।
दादा दरबार में गुरूपूजन

-गुरु पूर्णिमा के अवसर पर नरसिंहपुर स्थित झिरना क्षेत्र दादा दरबार में गुरु पादुका पूजन तथा प्रसाद वितरण का आयोजन किया गया। जिसमें प्रात काल पादुका पूजन किया गया। वहीं भंडारा और भजन संकीर्तन का कार्यक्रम भी दिन भर चलता रहा। यहां बड़ी संख्या में दादा के शिष्यों ने सहभागिता दी। इस मौके पर दादा दरबार समिति के सभी सदस्य मौजूद रहे।