स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जब कोई नहीं आता मेरे जयमल गुरु आते है....

Sharad Shukla

Publish: Sep 10, 2019 12:31 PM | Updated: Sep 10, 2019 12:31 PM

Nagaur

Nagaur latest patrika news.जयमल जाप से प्रारंभ हुआ त्रिदिवसीय जयमल जन्मोत्सव समारोह,गुरु भक्ति का भी हुआ आयोजनNagaur patrika latest news

 

नागौर. श्वेताम्बर स्थानकवासी जयमल जैन श्रावक संघ के तत्वावधान में आचार्य सम्राट जयमल महाराज के 312 वें जन्मोत्सव के उपलक्ष में त्रिदिवसीय कार्यक्रम की शुरुआत महचमत्कारिक जयमल जाप से हुई। सुबह 11 बजे से शाम को चार बजे तक लगातार जयमल जैन पौषधशाला में सैंकड़ो श्रावक-श्राविकाओं द्वारा जय जाप किया गया।जाप की प्रभावना के लाभार्थी जय जाप समिति के चेयरमैन शान्तिलाल चोपड़ा,चैन्नई निवासी रहें।

दवाएं मिलने के बाद इनके चेहरों पर लौटी मुस्कराहट...!

भजनों की प्रस्तुति

बंसल गार्डन में रात्रि में गुरु भक्ति कार्यक्रम में चैन्नई के सुप्रसिद्ध कलाकार डॉ.मोहन जैन एवं डॉ.मनोज जैन ने एक से बढकऱ एक भजनों की प्रस्तुति दी। शुरुआत नवकार महामन्त्र जाप एवं महाचमत्कारिक जयमल जाप से हुई।डॉ.मोहन जैन एवं डॉ.मनोज जैन ने जब कोई नहीं आता मेरे जयमल गुरु आते है....ओ गुरु सा थारो चेलों बनूँ मैं....जयमल-जयमल प्राण पुकारे.....पंचमकाल में जो इंसान साधु बने वो महान है....आदि भजनों की प्रस्तुतियां दी।सभी श्रोताओं ने भजनों की सराहना की और हर्ष-हर्ष,जय-जय के नारों से वातावरण गुंजायमान हो गया।देर रात तक कार्यक्रम चलता रहा।मंच का संचालन संजय पींचा ने किया।इस मौके पर अभयकुमार कांकरिया,विजयसिंह पींचा,धनपतसिंह लोढा,नवीन ललवानी, केसरीचन्द पींचा,रोशनमल नाहर,गौतमचंद बाघमार,निर्मलचंद चौरडिय़ा सहित श्रावक-श्राविकाएं उपस्थित रहें।

खरीफ की बुवाई पूरी होने के बाद भी किसानों को नहीं मिला फसली ऋण

10वीं व 12वीं के एडमिट कार्ड अब अभिभावकों के हस्ताक्षरों के बाद ही मिलेंगे
नागौर. सीबीएसई शिक्षण संस्थानों में अब विद्यार्थियों को प्रवेश पत्र यानी कि एडमिट कार्ड उनके अभिभावकों के हस्ताक्षरों के बाद ही मिल पाएगा। ताकी बाद में विद्यार्थियों की ओर से तकनीकी अंकन में त्रुटिपूर्ण होने आदि के आरोप नहीं लगाए जा सकें। इस संबंध में शिक्षण संस्थान के संस्था प्रधानों को भी कहा गया कि वह कम से कम तीन-तीन बार रजिस्ट्रेशन फार्म की जांच करने के निर्देश दिए हैं।

प्रदेश के इस जिले में सडक़ों पर आदमी नहीं, करंट दौड़ता है...!

अभिभावकों के हस्ताक्षर से ही जारी किए जाएंगे
विद्यार्थियों के हस्ताक्षर से अब एडमिट कार्ड मिलने की बातें पुरानी हो गई। कम से कम केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से जुड़े संंस्थानों में अब ऐसा नहीं हो सकेगा। बोर्ड के अधिकारियों के अनुसार एडमिड कार्ड जारी होने के बाद उनको दुरुस्त कराने के लिए विद्यार्थियों के आवेदनों की भीड़ लग जाती थी। इसकी वजह से बोर्ड एवं शिक्षण संस्थानों के अन्य प्रशासनिक कार्य प्रभावित होने लगे थे। तकरीबन पांच से छह सालों के अंतराल में ऐसे प्रकरणों की संख्या ज्यादा बढऩे पर उच्च स्तर पर अधिकारियों के बीच परस्पर हुई बैठकों में तय कियागया कि अब एडमिट कार्ड में उनके अभिभावकों के हस्ताक्षर से ही जारी किए जाएंगे।

हिंदू कभी मॉब लिचिंग नहीं करता है

एडमिट कार्ड जांच लें

अभिभावक हस्ताक्षर के दौरान ही एडमिट कार्ड लेकर अच्छी तरह से जांच लें। अन्यथा लिए जाने के बाद फिर से उसमें कोई सुधार नहीं किया जाएगा। इसके लिए कितना भी उनकी ओर से प्रयास किए जाएं। शिक्षण संस्थानों के प्रधानाचार्यों को भी कहा गया है कि वह रजिस्ट्रेशन फार्म को भली-भांति जांच लेंगे। संस्था प्रधानों की ओर से रजिस्ट्रेशन फार्म को जांचने की प्रक्रिया कम से कम तीन बार होनी चाहिए। संस्था प्रधानों की ओर से जांच के बाद भी त्रुटि निकली तो इसके जवाबदेह संबंधित शिक्षण संस्थान के संस्था प्रधान होंगे।

देशभक्ति का बच्चों पर कैसा रंग चढ़ा, रह गया हर कोई हैरान
इनका कहना है...
अब सीबीएसई बोर्ड के 10वीं एवं 12वीं के एडमिट कार्ड उनके अभिभावकों के हस्ताक्षरों के बाद ही दिए जाएंगे। ताकी बाद में बोर्ड पर त्रुटिपूर्ण एडमिट कार्ड जारी करने के आरोप नहीं लगाए जा सकें।
मनीष पारीक, कलस्टर इंचार्ज, राजकीय विवेकानंद मॉडल स्कूल नागौर