स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ट्रांसफार्मर के तारों में स्पार्किंग से आए दिन गुल हो जाती है बिजली

Anuj Chhangani

Publish: Sep 20, 2019 18:10 PM | Updated: Sep 20, 2019 18:10 PM

Nagaur

ग्राम पंचायत मुख्यालय में आटा चक्की के पास कुणी सडक़ किनारे स्थित विद्युत ट्रांसफार्मर में आए दिन स्पार्किंग होकर बिजली गुल होने से सैकड़ों उपभोक्ता परेशान हो गए है

चौसला. ग्राम पंचायत मुख्यालय में आटा चक्की के पास कुणी सडक़ किनारे स्थित विद्युत ट्रांसफार्मर में आए दिन स्पार्किंग होकर बिजली गुल होने से सैकड़ों उपभोक्ता परेशान हो गए है। डिस्कॉम की अनदेखी का खमियाजा ग्रामीणों को भुगतना पड़ रहा है। मजे की बात तो है कि इतने बड़े क्षेत्र में पिछले तीन-चार दिनों से कोई लाइनमैन ही नहीं है बिजली संबंधी कोई भी खरीबी होने पर गुढ़ासाल्ट के लाइनमैन को फोन कर उपभोक्ताओं को बुलाना पड़ता है। गुढ़ासाल्ट से आकर तकनीकी खराबी दुरुस्त करने के बाद बिजली आपूर्ति शुरू करने में घंटों लग जाते है। विद्युत ट्रांसफार्मर में स्पार्किंग होकर बिजली गुल होने की समस्या आए दिन हो रही है, लेकिन विभाग इस समस्या का स्थाई समाधान नहीं कर रहा है। कई बार तो लाइनमैन मरम्मत कर आपूर्ति शुरू करवाते ही फिर तार स्पार्किंग होकर जल जाता है। चौसला पंचायत में वर्तमान में एक भी लाइनमैन नहीं है। पावर हाऊस पर ठेकेदार ने एक कर्मचारी छोड़ रखा है वो भी कई बार नदारद रहता है। जनता परेशान होकर कई बार धरना प्रदर्शन भी कर चुकी है, लेकिन अधिकारी उस समय तत्काल समस्या का समाधान करने का आश्वासन देकर शांत कर देते है बाद में जनता यूं ही परेशान होती रहती है। शुक्रवार दोपहर को भी यही हुआ ट्रांसफार्मर में आग की चिंगारिया उठने के बाद बिजली गुल हो गई। मोहल्ले के उपभोक्ताओं ने पावर हाऊस पर लगे कर्मचारी से लाइनमैन की जानकारी ली तो उन्होंने गुढ़ासाल्ट से लाइनमैन लालाराम को बुलाने को कहा। उपभोक्ताओं ने लाइनमैन के नम्बर लेकर बात कि तब पौन घंटे बाद गुढ़ासाल्ट से लाइनमैन लालाराम ने आकर जले हुए तार की मरम्मत करने के बाद आपूर्ति बहाल हुई। तब तक उमस से लोग परेशान होते रहे। बिजली गुल होने से लोग खेतों में काम कर दोपहर में दो पल सकुन से आराम भी नहीं कर पाते है। वहीं कई बार रात के समय बिजली गुल होने से ग्रामीणों को जहरीले जीव-जंतुओं का भय सहता है। लोगों का कहना है कि थोड़ी सी हवा या बारिश होते ही लाइन में अक्सर फाल्ट आ जाता है। समस्या का मुख्य कारण बारिश से पहले लाइनों का मेंटेनेंस नहीं होता है। कई टांसफार्मर कंटली झाडिय़ों में अटे पड़े है तो कई जगह लाइनें झाडिय़ों से गुजर रही है।

इनका कहना है

ट्रांसफार्मर के तार जल कर बिजली बंद हो गई है तो गुढ़ासाल्ट में लालाराम और राजेश लाइनमैन को बुला लो।

लोकेश कुमार, जेईएन, डिस्कॉम अधिकारी नावां