स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

तापमान के लुढक़े पारे ने बढ़ाई सर्दी, हाड़ कंपाती चली बर्फीली हवाओं ने ढाया कहर

Sharad Shukla

Publish: Jan 01, 2020 12:42 PM | Updated: Jan 01, 2020 12:42 PM

Nagaur

Nagaur patrika news. जिले में पिछले तीन से चार दिनों में तापमान में दो से तीन डिग्री तापमान का पारा नीचे गिरते ही कड़ाके की हाड़ कंपाती ठंड ने लोगों की हालत बिगाड़ दी है।. Nagaur patrika news

नागौर. जिले में पिछले तीन से चार दिनों में तापमान में दो से तीन डिग्री तापमान का पारा नीचे गिरते ही कड़ाके की हाड़ कंपाती ठंड ने लोगों की हालत बिगाड़ दी है।

नागौरी मूंग की गुणवत्ता ने दूसरे राज्यों में बढाई इसकी मांग

शीतलहर के साथ ही कोहरे की अलसुबह आती धुंध के चलते स्थिति विकट होने लगी है। दोपहर में भी चलती बर्फीली हवाएं लोगों को परेशान करती रहीं। सर से पांव तक गर्म कपड़ों से ढंके रहने के बाद के बाद भी करीब 13 से लेकर 18 किलोमीटर प्रति घंटे की चल रही हवाओं की रफ्तार ने लोगों की रफ्तार पर अंकुश लगा दिया है। मंगलवार को भी अधिकतम तापमान 19 डिग्री सेल्सियस एवं न्यूनतम तापमान नौ डिग्री सेल्सियस रहा।ठंड के चलते बाजारों में भी दुकानें देर से खुली, लेकिन शाम को निर्धारित समय से पहले ही बंद हो गई।

Nagaur. कड़ाके की सर्दी के चलते कलक्टर ने की स्कूलों स्कूलों की छुट्टियां, बड़े बच्चों व शिक्षकों को जाना होगा, पढिय़े पूरी खबर
पिछले चार से पांच दिनों की अंतराल में बदले मौसम में मंद चल रही हवाओं को और गति दे दी। महज पांच से सात किलोमीटर तक सामान्यत: चलने वाली हवाओं की गति भी दोगुना बढऩे के साथ ही तापमान का पारा दो से तीन डिग्री सेल्सियस नीचे जा लुढक़ा। पारा गिरते ही तेज चल रही बर्फीली हवाओं की मार से अब स्थिति विकट होने लगी है। सर्दी की स्थिति का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि सुबह सात से आठ बजे तक कई इलाके इन दिनो कोहरे में कैद नजर आने लगे हैं। विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में तो कोहरे का प्रभाव सुबह आठ बजे तक प्रभावी रहता है। सर्दी के कहर बरपाने के बाद अलसुबह लोग जहां घरों से निकलने में परहेज बरतने लगे हैं, वहीं काश्तकारों की स्थिति विकट होने लगी है।

शीतलहर में स्कूलों में हैं किसकी हैं छुट्टियां जानें.....

शहर के पुराना हॉस्पिटल, बीकानेर रेलवे फाटक, निर्माणाधीन ओवरब्रिज के पास, पुराना हॉस्पिटल चौराहा, गांधी चौक, सदर बाजार, किले की ढाल, तिगरी बाजार, मूण्डवा चौहरा, केन्द्रीय बस स्टैंड आदि क्षेत्रों में अलसुबह कहर बनकर टूटी सर्दी ने सुबह जल्दी दुकानदारों को दुकानें नहीं खोलने दी। सामान्यत: सुबह सात से बजे तक खुलने वाले बाजार मंगलवार को सुबह नौ बजे तक पूरी तरह से खुल पाए। दोपहर में आसमान से सूरज तो निकला, लेकिन तेज चल रही बर्फीली हवाओं ने किसी को चैन से नहीं रहने दिया। ठंड सूई सी चुभन का अहसास कराती रही। गर्म कपड़े तेज चल रही बर्फीली हवाओं के सामने बेबस रहे। शहर से ज्यादा सर्दी का प्रकोप गांवों में रहा। ग्रामीण क्षेत्रों के कई इलाके सूरज निकलने के बाद भी कोहरे में गायब नजर आए।

अद्भुद, अकल्पनीय, नहीं देखा कभी ऐसा सूर्यग्रहण
नागौर में शीतलहर का कहर
शीतलहर में स्कूलों में हैं किसकी हैं छुट्टियां जानें.....
शीत लहर-भीषण कोहरे केचलते विद्यालयों में अवकाश घोषित -
कक्षा 8 तक के विद्यार्थियों हेतु रहेगा अवकाशनागौर. जिले में पडे रही कडाके की सर्दी व कोहरे के मध्यनजर जिला कलक्टर दिनेश कुमार यादव ने उच्च प्राथमिक स्तर तक के विद्यार्थियों हेतु चार दिवस का अवकाश घोषित किया है।

काश्तकारों ने अब जैविक खेती नहीं की तो जहरीला खाना मिलेगा

उन्होनें बताया कि शीत लहर चलने के कारण एक जनवरी से चार जनवरी तक जिले में समस्त राजकीय, निजी, सीबीएसई एवं अन्य बोर्ड से मान्यता प्राप्त विद्यालयों में कक्षा 1 से 8 तक विद्यार्थियों हेतु अवकाश घोषित किया है। वहीं कक्षा 9 से 12 तक के विद्यार्थियों का विद्यालय समय शिविरा पंचाग अनुसार प्रात: 10 बजे से सांय 4 बजे तक रहेगा, और विद्यालय स्टाफ निर्धारित समय पर विद्यालय में उपस्थित रहेगें। आदेशों का उल्लंघन करने पर संबंधित संस्था के विरूद्ध मान्यता रदद् करने संबंधी कार्यवाही की जाएगी। जिला मुख्य शिक्षाधिकारी अजय बाजपेयी ने बताया कि अवकाश दिनों की अवधि में आदेशों का उल्लंघन करने पर विभाग सख्त कार्रवाई करेगा। इस संबंध में जिले के शिक्षाधिकारियों को इसकी पालना कराने के निर्देश जारी किए जा चुके हैं।

जिला स्तरीय आरोग्य चल इकाई कहां चल रही, ग्रामीणों को पता नहीं
सर्दी से फिलहाल राहत की उम्मीद नहीं
मौसमविदों की माने तो पूरे माह फिलहाल हाड़ कंपाती ठंड से राहत मिलने वाली नहीं है। हालांकि अधिकतम तापमान के पारे में एक से तीन डिग्री सेल्सियस का अंतर जरूर आएगा, लेकिन इससे भी तेज चलती बर्फीली हवाएं चेन से नहीं रहने देंगी। पूरा माह इसी तरह ठंड में ही गुजरेगा। हालांकि माह के एक या दो दिन अधिकतम तापमान का पारा 25 डिग्री सेल्सियस एवं न्यूनतम का पारा सात से 11 के बीच रहने की उम्मीद जताई गई है।

औषधि नियंत्रक विभाग की लापरवाही से झोलाछाप बने मौत के सौदागर...!

मौसमविदों का पूर्वानुमान यदि सटीक निकला तो फिर निश्चित रूप से पूरे माह हाड़ कंपाती ठंड में लोग कांपते ही नजर आएंगे।

[MORE_ADVERTISE1]