स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

विवाहिता की संदिग्ध मौत, पीहर पक्ष ने कराया दहेज हत्या मुकदमा

Shyam Lal Choudhary

Publish: Sep 19, 2019 22:23 PM | Updated: Sep 19, 2019 22:23 PM

Nagaur

Suspected death of married woman, dowry murder case सदर थाना क्षेत्र के बालवा गांव की घटना, मृतका के भाई ने सदर थाने में पति सहित सास-ससुर व दादी ससुर के खिलाफ दहेज हत्या का मामला दर्ज कराया

Suspected death of married woman, dowry murder case नागौर. सदर थाना क्षेत्र के बालवा गांव में बुधवार रात को एक विवाहिता की संदिग्ध हालत में मौत हो गई। घटना के करीब 12 घंटे बाद ससुराल पक्ष ने पुलिस को सूचना देकर मौके पर बुलाया। पुलिस ने घटना स्थल पहुंचकर शव को जेएलएन अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया है। शुक्रवार को परिजनों की उपस्थिति में पोस्टमार्टम करवाया जाएगा। मृतका के भाई रेवंतराम ने सदर थाने में पति सहित सास-ससुर व दादी ससुर के खिलाफ दहेज हत्या का मामला दर्ज कराया है।

जानकारी के अनुसार बुधवार शाम को गांव में सामाजिक कार्यक्रम का भोजन था। ससुराल पक्ष के लोगों का कहना है कि परिवार के सभी लोग उसमें खाना खाने गए हुए थे। किसनाराम मेघवाल की पत्नी सुशीला (23) भी खाना खाने गई थी और वापस आने के बाद उसकी तबीयत खराब हो गई। रात करीब करीब 3-4 बजे सुशीला की मौत हो गई। उधर, पीहर पक्ष ने दहेज के लिए तंग परेशान करने तथा हत्या का आरोप लगाया है।

सदर थानाधिकारी नंदकिशोर वर्मा ने बताया कि बीकानेर के पांचू थाना क्षेत्र के बासी गांव निवासी मृतका सुशीला के भाई रेवंतराम ने थाने में रिपोर्ट देकर पति किसनाराम सहित सास-ससुर व दादी ससुर के खिलाफ दहेज हत्या का मामला दर्ज कराया है। परिजनों का कहना है कि सुशीला की शादी करीब 3 साल पहले किसनाराम के साथ हुई थी। शादी के बाद ससुराल पक्ष के लोगों ने उसे दहेज के लिए तंग परेशान करना शुरू कर दिया। पुलिस ने शव जेएलएन अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया है, शुक्रवार को पोस्टमार्टम करवाया जाएगा। घटना की जानकारी मिलने पर मृतका के पीहर के पक्ष के काफी लोग जेएलएन अस्पताल पहुंच गए।

इसलिए हो रहा संदेह
मृतका के परिजनों का कहना है कि सुशीला की मौत बुधवार रात को हो गई। लेकिन पुलिस को सूचना घटना के करीब 12 घंटे बाद गुरुवार दोपहर 3-4 बजे दी गई। इतनी देर शव लेकर क्यों बैठे रहे, इसको लेकर पुलिस का संदेह गहरा रहा है।