स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बिजली चोरी, बिल की झंझट खत्म, स्मार्ट मीटर देगा जानकारी

Sharad Shukla

Publish: Jan 03, 2020 12:41 PM | Updated: Jan 03, 2020 12:41 PM

Nagaur

Nagaur patrika latest news. बिजली बिल आने की माथापच्ची, और आ भी गया तो फिर यूनिट कम था, ज्यादा का बिल कैसे आ गया सरीखी माथापच्ची से अब अधिकारियों की माने तो नए साल में उपभोक्ताओं को छुटकारा मिल जाएगा। केवल यही नहीं, बल्कि प्रतिमाह यूनिटवार खपत की पूरी तथ्यात्मक जानकारी उपभोक्ताओं के मोबाइल पर ही मिल सकेगी. Nagaur patrika latest news

नागौर. बिजली बिल आने की माथापच्ची, और आ भी गया तो फिर यूनिट कम था, ज्यादा का बिल कैसे आ गया सरीखी माथापच्ची से अब अधिकारियों की माने तो नए साल में उपभोक्ताओं को छुटकारा मिल जाएगा। केवल यही नहीं, बल्कि प्रतिमाह यूनिटवार खपत की पूरी तथ्यात्मक जानकारी उपभोक्ताओं के मोबाइल पर ही मिल सकेगी। स्वीकृत लोड से ज्यादा की बिजली खपत का प्रयास किए जाने पर स्मार्ट मीटर खुद ही बिजली की आपूर्ति बंद कर देगा। फिलहाल इसे 200 यूनिट बिजली प्रतिमाह खपत करने वाले उपभोक्ताओं के यहां लगाया जाएगा।

नए वर्ष के पहले दिन नो-व्हीकल डे पर ईरिक्शा से पहुंचे डीटीओ
बिजली चोरों पर लगाम कसने के साथ ही उपभोक्ताओं को पहले से ज्यादा सुविधा उपलब्ध कराने के लिए डिस्कॉम अब स्मार्ट मीटर लगाएगा। इसे लगाए जाने की कवायद प्रदेश के अन्य जिलों में भी शुरू हो चुकी है। इसमें पंद्रह दिनों एवं एक माह के अंतराल में बिजली खपत की सटीक जानकारी मिलेगी। यह नहीं, मीटर से छेड़छाड ़ की स्थिति में इसकी पूरी जानकारी सर्वर पर पहुंच जाएगी। अधिकारियों के अनुसार यह मीटर 24 घंटे में 96 बार अपडेट होगा। यही नहीं, उपभोक्ताओं को माहवार बिजली खपत की पूरी जानकारी भी एसएमएस के जरिए मोबाइल पर ही मिल जाएगाी। मीटर के प्रति यूनिट की खपत की जानकारी ऑनलाइन स्वत: दर्ज हो जाएगी। इससे डिस्कॉम को भी यूनिट संग्रहण की तथ्यात्मक जानकारियों के लिए अपने कर्मचारियों की ड्यूटी इसमें नहीं लगानी पड़ेगी। डिस्कॉम के अधिकारियों के अनुसार विभाग ने इस तरह के मीटर लगाए जाने की कवायद तेज कर दी है। पहले यह बिल औद्योगिक कार्यस्थलों एवं सरकारी विभागों में भी लगाए जाएंगे। इसके बाद फिर उपभोक्ताओं का नंबर आएगा। अधिकारियों का कहना है कि यदि सभी चीजें योजनानुसार चली तो फिर इसी साल ही उपभोक्ताओं को नए वर्ष का यह तोहफा स्मार्ट मीटर के तौर पर मिल जाएगा। इसके लगने के बाद भी विभाग एवं उपभोक्ता के बीच होने वाली माथापच्ची एवं आरोप-प्रत्यारोपों का भी अंत हो जाएगा। विभागीय अधिकारियों के अनुसार तकनीकी रूप से इस मीटर के तेज चलने या फिर डिफॉल्टर आदि की त्रुटियां इसमें होने की गुंजाइश न के बराबर रहती है।

तापमान के लुढक़े पारे ने बढ़ाई सर्दी, हाड़ कंपाती चली बर्फीली हवाओं ने ढाया कहर
डिस्कॉम पर नहीं होगा स्मार्ट मीटर अतिरिक्त व्यय भार
डिस्कॉम के अधिकारियों के स्मार्ट मीटरों को लगाने के लिए एकमुश्त राशि का व्यय नहीं करना पड़ेगा। राजस्थान रूरल इलेक्ट्रीफिकेशन (आरईसी) प्रति मीटर 1200 रुपए की ग्रांट देगी। मीटर लगाए जाने की जिम्मेदारी भी संबंधित कंपनी की होगी। इतना ही इसका खराब होने, जलने या एवं अन्य कारणों से तकनीकी समस्या उत्पन्न होने की स्थिति में संबंधित कंपनी की जिम्मेदारी मीटर बदलना होगी। इन मीटर्स के रखरखाव या मेनटेनेंस का पूरा जिम्मा करीब 10 साल तक संबंधित कंपनी को ही उठाना पड़ेगा। इसके एवज में डिस्कॉम की ओर से संबंधित कंपनी को मेनटेनेंस के एवज में प्रतिमाह एक निश्चित राशि दी जाएगी।

नागौरी मूंग की गुणवत्ता ने दूसरे राज्यों में बढाई इसकी मांग
सभी को नहीं मिलेगी इसकी सुविधा
डिस्कॉम के अनुसार फिलहाल स्मार्ट मीटर्स की सुविधा सभी उपभोक्ताओं को नहीं मिलेगी। इसको वहीं लगाया जा सकेगा, जहां पर प्रतिमाह 200 यूनिट से ज्यादा की खपत होगी। इसे लगाने वाले उपभोक्ताओं को यह भी सुविधा मिलेगी कि वह इसे चाहें तो प्रीपेड में बदलवा सकेंगे। अधिकारियों की माने तो डिस्कॉम सिंगल एवं थ्री फेज मीटर की जगह इसे ही लगवाने में प्राथमिकता देगा। इसमें कृषि कनेक्शन वाले 200 यूनिट से ज्यादा की खपत के उपभोक्ताओं के यहां से लगाया जाएगा।

कड़ाके की सर्दी के चलते कलक्टर ने की स्कूलों स्कूलों की छुट्टियां, बड़े बच्चों व शिक्षकों को जाना होगा, पढिय़े पूरी खबर
इसलिए लगाया जाएगा स्मार्ट मीटर
डिस्कॉम के अनुसार उपभोक्ताओं को सहुलियत के साथ बिजली की छीजत को रोकना हैं। मोबाइल की तरह ही मीटर रिचार्ज होगा. जरूरत के अनुसार मीटर ऑन-ऑफ कर सकेंगे। स्मार्ट मीटर लगने के बाद उपभोक्ताओं को समय पर बिजली बिल चुकाना होगा। समय पर बिल जमा नहीं हुआ तो उपभोक्ता की बिजली ऑनलाइन सर्वर से ही कट जाएगी। फिलहाल इसको जोधपुर डिस्कॉम, अजमेर डिस्कॉम, जयपुर डिस्कॉम में इसे लगाए जाने की योजना है।

[MORE_ADVERTISE1]