स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बलात्कार के आरोपी शिक्षक को आजीवन कारावास

Sandeep Pandey

Publish: Oct 16, 2019 11:06 AM | Updated: Oct 16, 2019 11:06 AM

Nagaur

- जिला पोक्सो कोर्ट ने सुनाया फैसला

मेड़ता सिटी. नाबालिग से बलात्कार के एक मामले में जिला पोक्सो कोर्ट ने मंगलवार को एक शिक्षक को आजीवन कारावास तथा चार लाख रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है।

 

मेड़ता सिटी. नाबालिग से बलात्कार के एक मामले में जिला पोक्सो कोर्ट ने मंगलवार को एक शिक्षक को आजीवन कारावास तथा चार लाख रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है। जिले के मौलासर पुलिस थाने में एक जने ने 1 सितंबर 2015 को रिपोर्ट दर्ज करवाई कि उसकी भानजी मौलासर में 11वीं कक्षा में अध्यरत है। वो 29 अगस्त 2015 को मौलासर जाने का कहकर निकली। उसके बाद घर नहीं पहुंची। 30 अगस्त को सुबह 8 बजे पता चला की वह मौलासर बस स्टैंड पर खड़ी है। जिसे रिश्तेदार उसे लेकर घर पहुंचा। वह काफी घबराई हुई थी। उसने बताया कि मौलासर स्थित एक निजी स्कूल में 9वीं कक्षा में पढ़ रही थी। इस दौरान स्कूल का मास्टर चेनाराम मेघवाल ने स्कूल परिसर में उसके साथ बलात्कार किया। जान से मारने की धमकी देने व स्कूल से निकाल देने का भय दिखाने पर वो डर गई तथा घर वालों को कुछ नहीं बताया। इस कमजोरी का फायदा उठाकर आरोपी शिक्षक ने कई बार बलात्कार किया। इससे घबराकर के उसने स्कूल छोड़ दिया। जुलाई 2015 में सरकारी स्कूल में प्रवेश ले लिया। तब भी मास्टर चेनाराम ने उसका पीछा नहीं छोड़ा। 29 अगस्त को जब वो मौलासर बाजार में राखी खरीदने गई तो आरोपी मिल गया और बदनामी का भय दिखाते हुए उसे बस स्टेंड ले गया। उसी दिन डीडवाना में बलात्कार किया। 30 अगस्त को सुबह उसने बस में बैठा दिया। जहां से वो मौलासर पहुंची। पुलिस ने मामला दर्ज कर पीडि़ता का मेडिकल मुआयना व कलमबद्ध बयान दर्ज करवाए। थाना पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर न्यायालय में चार्जशीट पेश की। जिला पोक्सो कोर्ट में मामले के दौरान 24 गवाहों के बयान हुए। पोक्सो न्यायाधीश रेखा राठौड़ ने सुनवाई करते हुए आरोपी निजी विद्यालय के शिक्षक चेनाराम मेघवाल को भादस की धारा 366 एवं 3/4 पोक्सो एक्ट के तहत कठोर आजीवन कारावास व 4 लाख के अर्थदंड की सजा सुनाई। साथ ही निर्देश दिए कि जुर्माने की राशि से 50 हजार रुपए पीडि़ता को शिक्षा के लिए दिए जाएं। न्यायालय में मामले की पैरवी विशिष्ट लोक अभियोजक सुमेर बेड़ा ने की।