स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

वो दर्द से चीखते रहे, फिर भी चुपचाप तमाशा देखते रहे...!

Sharad Shukla

Publish: Sep 17, 2019 11:54 AM | Updated: Sep 17, 2019 11:54 AM

Nagaur

Nagaur patrika latest news.हादसे में घायलों की मदद के लिए पहुंचे अंजान, लेकिन अस्पताल में नहीं मिले जिम्मेदार.Nagaur patrika latest news

 

Nagaur patrika latest news.नागौर. दुर्घटना होने पर घायलों को लेकर जवाहरलाल नेहरू चिकित्सालय पहुंचे अंजान युवकों को मौके पर कोई ट्रालीमैन नहीं मिला। घायलों का एक्सरे कराने और भर्ती होने के बाद वार्ड तक पहुंचाने भी इन्हीं युवकों को जाना पड़ा। ट्रालीमैन की तलाश के बाद भी काफी देर तक कोई नजर नहीं आया, और न ही कोई जिम्मेदार मिला। इससे स्थिति काफी विकट रही। उल्लेखनीय है कि गत दिवस अस्पताल में अव्यवस्थाओं को लेकर विधायक से लेकर जिला कलक्टर तक पीएमओ को नसीहत दे चुके हैं। इसके बाद भी यह स्थिति बने रहना लोगों की समझ से परे रहा।

खुद की गाड़ी में सभी घायलों को लेकर जेएलएन पहुंचे
जानकारी के अनुसार अलाय के संतेरण में सडक़ हादसा हो गया। सोमवार को शाम हुए हादसे के दौरान मौके पर लोगों की भीड़ एकत्र हो गई। इस दौरान 108 एम्बुलेंस को सूचना दी गई, लेकिन पहुंची नहीं। घायलों को ले जाने के लिए किसी के भी नहीं पहुंचने पर जसपालसिंह ने अपने एक दोस्त की मदद से खुद की गाड़ी में सभी घायलों को लेकर जेएलएन पहुंचे। यहां पर पहुंचने के बाद गाड़ी से घायलों को उतारने-ले जाने के लिए कोई भी ट्रालीमैन नहीं नजर आया। इस दौरान ट्रालीमैन की तलाश की गई, और इमरजेंसी में तैनात चिकित्साकर्मियों से सहायता मांगने के बाद भी सकारात्मक परिणाम नहीं मिला।

साथी की मदद से घायलों को वाहन से बाहर निकाला

आखिरकार जसपाल ने खुद अपने साथी की मदद से घायलों को वाहन से बाहर निकाला, और स्ट्रेचर व व्हीलचेयर आदि पर लेकर इमरजेंसी में उपचार कराने के लिए ले गए। यहां पर जांच के दौरान चिकित्सक की ओर से घायल का एक्सरे कराने के लिए कहा गया। एक्सरे कराने के लिए भी संबंधित चिकित्साकर्मी व ट्रालीमैन की तलाश की गई, मगर नहीं मिला।

चिकित्साकर्मी व ट्रालीमैन नहीं मिला

आखिरकार लोगों से पूछते हुए कि घायल को लेकर एक्सरे रूम तक पहुंचे। यहां पर एक्सरे कराने के बाद रोगी को भर्ती कर लिया गया और वार्ड में भेजा गया। वार्ड में ले जाने के लिए भी कोई चिकित्साकर्मी व ट्रालीमैन नहीं मिला। हैरत की बात यह रही कि इमरजेंसी में ड्यूटी पर मौजूद चिकित्साकर्मियों ने भी वार्ड तक पहुंचाने व एक्सरे कराने में पीडि़तों की कोई मदद करने तक की जहमत नहीं उठाई। अस्पताल की अव्यवस्थाओं से हैरान-परेशान दोनो साथी जिम्मेदारों को कोसते हुए लोगों से पूछते हुए वार्ड तक पहुंचे। हालांकि इस दौरान एक वार्ड में पहुंंचे तो वहां पीडि़त को दूसरे वार्ड में जाने के लिए कह दिया गया। फिलहाल घायल तो वार्ड तक पहुंच गया, मगर देवदूत बनकर मदद के लिए पहुंचे अंजान युवकों को प्रोत्साहन की जगह अस्पताल प्रशासन से हतोत्साहित करने से वह बेहद निराश-दुखी नजर आए।
अस्पताल की व्यवस्था सुधारेंगे
अस्पताल की अव्यवस्थाओं के संदर्भ जिला कलक्टर की ओर से गठित हाईपावर कमेटी के अध्यक्ष शीशराम चौधरी से इस संबंध में बातचीत हुई तो इनका कहना था कि व्यवस्थाओं को बेहतर करने के लिए आवश्यक कारगर कदम उठाए जा रहे हैं। घटना के संदर्भ में भी भी पीएमओ से बातचीत कर जानकारी ली जाएगी। इस तरह की परेशानियां रोगियों को नहीं होने दी जाएगी।Nagaur patrika latest news