स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पांचवा में अवैध खनन रोकने गई वन विभाग की टीम पर हमला

Sandeep Pandey

Publish: Dec 06, 2019 11:37 AM | Updated: Dec 06, 2019 11:37 AM

Nagaur

पथराव से वन विभाग की सरकारी वाहन क्षतिग्रस्त, पांचवा में धन्देली पहाड़ी पर अवैध रोकने गई थी वन विभाग की टीम

चितावा. कस्बे के समीप ग्राम पांचवा में डूंगरी पर पत्थरों का अवैध खनन रोकने गई वन विभाग की टीम पर कई लोगों ने जानलेवा हमला कर सरकारी वाहन को क्षतिग्रस्त कर दिया। खननकर्ताओं के पथराव करने से वन विभाग की टीम को जान बचाकर भागना पड़ा। ग्राम पंचायत पांचवा में धन्देली पहाड़ी पर गरुवार शाम को अवैध खनन की सूचना पर वन विभाग कुचामन सिटी की टीम सहायक वन संरक्षक अधिकारी परबतसर आनन्द कुमार जाट के साथ शाम करीब ६ बजे अवैध खनन रोकने पहुंची। वन विभाग की टीम को पहाड़ी पर लोग ट्रेक्टरों से अवैध पत्थर खनन करते दिखाई दिए। विभाग की टीम ने खनन कार्य से मना कर एक ट्रेक्टर चालक को रोकने का प्रयास किया। इसी दौरान ट्रेक्टर चालक ने वन विभाग के कर्मचारियों की तरफ तेज गति से चलाकर मारने का प्रयास किया तथा वन विभाग की मोटरसाइकिल पर टक्कर मार दी जिससे मोटर साइकिल क्षतिग्रस्त हो गई। अवैध खननकर्ताओं ने पथराव से वन विभाग की सरकारी जीप व टीम पर हमला कर दिया। हमले से विभाग की सरकारी जीप भी क्षतिग्रस्त हो गई। टीम में शामिल कार्मिकों को चोटें आई। अचानक हमले से वन विभाग की टीम के लोगों को जान बचाकर भागना पड़ा। घटना की सूचना पुलिस कन्ट्रोल रूम नागौर को दी गई। सूचना मिलने पर चितावा थाने के सहायक उप निरीक्षक भंवर सिंह व महावीर प्रसाद मौके पर पहुंचे और मोर्चा संभाला

ये थे टीम में शामिल
पांचवा में धान्देली पहाड़ी पर अवैध रोकने पहुंची टीम में भंवर लाल वनपाल कुचामन, ओमप्रकाश मीणा सहायक वनपाल, मनोज खोखर वन रक्षक, हरि सिंह, धर्मन्द्र, ओमप्रकाश खण्डेलवाल आदि शामिल थे। टीम में शामिल कर्मचारियों ने पहाड़ी पर अवैध खनन कर पत्थर परिवहन करते ट्रेक्टर चालक को मना किया। टे्रक्टर चालक ने टक्कर मारकर मोटर साइकिल को क्षतिग्रस्त कर दिया व पहाड़ी पर खनन कर रहे लोगों ने पथराव शुरू कर दिया जिससे विभाग की सरकारी जीप क्षतिग्रस्त हो गई।

हौसले बुलन्द
पांचवा सहित इण्डाली, घाट की ढाणी में पिछले कई दिनों से डूंगरी पर अवैध खनन हो रहा है। अवैध खनन रोकने की कार्यवाही के दौरान खनन कर रहे लोग वन विभाग की टीम पर पथराव शुरू कर देते हैं। नतीजन कई बार विभाग को बिना कार्रवाई किए बैरंग लौटना पड़ता है।

[MORE_ADVERTISE1]