स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बंजारों की ढाणियों में भारी पुलिस जाब्ते के बीच हटाएंगे अतिक्रमण

Shyam Lal Choudhary

Publish: Aug 24, 2019 21:17 PM | Updated: Aug 24, 2019 21:17 PM

Nagaur

Banjara society's encroachments will be destroyed on 25 aug , आज ध्वस्त होंगे होंगे बंजारा समाज के कच्चे-पक्के निर्माण, कलक्टर-एसपी ने दल-बल के साथ ढाणियों में पहुंचकर किया आगाह, खुद हटा लो, नहीं तो हम तोड़ेंगे, कलक्टर दिनेश कुमार यादव ने कहा - हाईकोर्ट के आदेश की होगी पालना

Banjara society's encroachments will be destroyed on 25 aug नागौर. शहर के निकटवर्ती ताऊसर ग्राम पंचायत की 6-7 बीघा चारागाह भूमि पर बसे कमजोर वर्ग बंजारा, घुमन्तु पिछड़ी जाति के लोगों के मकान सहित अन्य अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई रविवार अलसुबह शुरू हो जाएगी। अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई करने से पूर्व शनिवार को जिला कलक्टर दिनेश कुमार यादव, एसपी डॉ. विकास पाठक सहित पुलिस एवं प्रशासन के अधिकारी पुलिस जाब्ते के साथ बंजारों की ढाणियों में पहुंचे तथा अपने आप अतिक्रमण हटाने के लिए कहा।

कलक्टर यादव ने बंजारा समाज के लोगों से कहा कि हम चाहते हैं कि आपको कम से कम नुकसान हो, इसलिए रविवार सुबह तक खुद ही अपना सामान खाली कर लो और जितना सामान बचा सकते हो, बचा लो। कलक्टर ने स्पष्ट शब्दों में कहा कि अतिक्रमण हटाने के लिए हाईकोर्ट के आदेश हैं, जिनकी पालना हर हाल में की जाएगी। अधिकारियों की समझाइश के बाद समाज के बुजुर्ग लोगों ने इस बात पर सहमति दे दी तथा खुद ही अतिक्रमण हटाने की बात कही। कलक्टर ने कहा कि रविवार सुबह तक अतिक्रमण हटाने में हम आपकी मदद करेंगे, लेकिन सुबह कार्रवाई शुरू होगी, जिसमें कच्चे-पक्के अतिक्रमण ध्वस्त किए जाएंगे।

पांच ब्लॉक में है अतिक्रमण
कलक्टर यादव ने बताया कि चारागाह भूमि पर किया गया अतिक्रमण अलग-अलग पांच स्थानों पर है, जिसे प्रशासन ने ए, बी, सी, डी एवं ई ब्लॉक में विभाजित किया है। गत १९ व २० अगस्त को हाईकोर्ट में इस मामले की सुनवाई हुई थी, जिसमें हाईकोर्ट ने चारागाह भूमि के बदले खातेदारी की जमीन सरेंडर करने तथा एक स्थान पर बसने की शर्त रखी थी। कलक्टर ने पत्रिका को बताया कि अब तक किसी ने खातेदारी की जमीन सरेंडर करने को लेकर लिखित में नहीं दिया है। रविवार को सबसे पहले ई ब्लॉक में अतिक्रमण तोड़े जाएंगे, इसके बाद डी व सी में कार्रवाई होगी। तब तक यदि अतिक्रमियों की ओर से स्टाम्प पर लिखित में चारागाह भूमि के बदले खातेदारी जमीन सरेंडर करने की सहमति दी जाएगी तो ए व बी ब्लॉक को छोड़ा जाएगा, अन्यथा उनमें भी अतिक्रमण ध्वस्त किए जाएंगे। कलक्टर ने कहा कि २९ अगस्त को इस मामले में हाईकोर्ट में फिर सुनवाई है, इसलिए कार्रवाई करना आवश्यक है। सी, डी व ई ब्लॉक में हर हालत में अतिक्रमण हटाने हैं।

पुलिस प्रशासन ने बुलाया जाब्ता
चारागाह भूमि पर किए गए अतिक्रमण को हटाने के लिए जिला प्रशासन का सहयोग देने एवं कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस प्रशासन ने भी पूरी तैयारी कर ली है। शनिवार को जब अधिकारी बंजारों की ढाणियों में पहुंचे तो पुलिस जाब्ते की तीन बसें साथ थी। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पुलिस लाइन सहित जिले भर से करीब 700-800 पुलिसकर्मियों का जाब्ता मौके पर तैनात रहेगा।

कार्रवाई के विरोध में मुख्यमंत्री के सौंपा ज्ञापन
पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा अतिक्रमण हटाने की चेतावनी देने के बाद दूसरे समाज के लोगों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नाम कलक्टर को ज्ञापन सौंपकर बंजारा समाज के लोगों के प्रति सहानुभूति रखते हुए रहवासी मकानों के नियमितीकरण व पुनर्वास करने की मांग की। ज्ञापन देने आए ओमप्रकाश गोदारा, दिनेश बेड़ा, महिपाल बुडि़या, लालाराम सोनी, सुरेन्द्र, तिलोकचंद, धर्माराम, कैलाशराम, हिराराम कुड़ी, मनमोहन सिंह, रमेश खोजा, जगदीश सहित अन्य लोगों ने ज्ञापन सौंपकर बताया कि बंजारा समाज के लोग पहले घुमंतु जातियों के रूप में पहचाने जाते थे, धीरे-धीरे स्थाई रूप से निवास करने लगे। एेसे में इस समाज को बसाने की बजाए उजाडऩा उचित नहीं है। सरकार इस मामले में समाज के लोगों को बसाने के प्रयास करे।