स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

युवाओं ने निकाली बाइक रैली मरीजों को वितरित किए फल

Murari Soni

Publish: Aug 10, 2019 19:05 PM | Updated: Aug 10, 2019 19:05 PM

Mungeli

आदिवासी दिवस: लोरमी में आयोजित किया गया रक्तदान शिविर

लोरमी. 9 अगस्त को विश्व आदिवासी दिवस के रूप में मनाया गया। वहीं समाज के लोगों ने बाइक रैली निकाली और जरूरतमंदों के लिए रक्तदान किया। इसके साथ ही 50 बिस्तरीय अस्पताल में में मरीजों को फल वितरण किया गया। समातज के पदाधिकारियों कार्यक्रम के माध्यम से 9 अगस्त को विश्व आदिवासी पर अवकाश घोषित करने पर राज्य के मुखिया भुपेश बघेल का आभार व्यक्त किया।
विश्व आदिवासी दिवस अखिल भारतीय आदिवासी विकास परिषद लोरमी के द्वारा सामुदायिक भवन रानीगांव में धूमधाम से मनाया गया। कार्यक्रम के पहले समाज के सदस्यों के द्वारा 300 बाइक एवं 20 चार पहिया वाहनों से रैली निकाली गई, जो कार्यक्रम स्थल से सारधा होते हुए रानीगांव व मुख्य मार्ग होते हुए कालेज मैदान होकर पूरे नगर का भ्रमण कर वापस कार्यक्रम स्थल पहुंचकर समाप्त हुई। वहीं कार्यक्रम के प्रारंभ में समाज प्रमुखों ने दीप प्रज्ज्वलित कर विचार गोष्ठी का शुभारंभ किया। इस दौरान सीताराम नेताम, डॉ. जीएस दाउ, दिलेश्वर ध्रुव, माखन सिंह मरावी व जेआर ध्रुव ने समाज को जागृत करने एवं संगठित होने को लेकर अपने-अपने विचार व्यक्त किये। कार्यक्रम का संचालन भागीरथी ध्रुव व राजकुमार ध्रुव एवं आभार व्यक्त रामकृष्ण ध्रुर्वे के द्वारा किया गया। उक्त कार्यक्रम में दयाराम ध्रुव, रामनाथ मार्को, गणेश मरावी, शत्रुहन सिंह ध्रुव, परसराम मरकाम, रामकृष्ण ध्रुव, दीपक मरकाम, ज्ञानी ध्रुव, अकत ध्रुव, रोहित ध्रुव, बीएल बिंझवार, सुनीता ध्रुव, कुमारी ध्रुव, एसएल ध्रुव, मिथलेश ध्रुव, केशव ध्रुव, चैनसिंह पोर्ते, राजकुमार ध्रुव, अजय पन्ना, मालिक राम उरांव, शिवलाल ध्रुव, प्रहलाद ध्रुव, दिनेश मरावी, अरूण ध्रुव, डीआर मरावी, मनी ध्रुव, शत्रुहन केसर, प्रकाश ध्रुव, अनिता पोर्ते, हेमलता ध्रुव, करन मरावी व चैन सिंह पोर्ते मौजूद रहे।
समाज के ३३ लोगों ने किया रक्तदान :
कार्यक्रम स्थल में अखिल भारतीय आदिवासी विकास परिषद लोरमी के द्वारा रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया, जिसमें समाज के 32 युवक एवं 1 युवती के द्वारा रक्तदान किया। साथ ही रक्तदान को बढ़ावा देने की बाद कही। रक्तदान के बाद समाज के सदस्यों के द्वारा 50 बिस्तर मातृ शिशु अस्पताल में मरीजों को फल वितरण किया गया।