स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बारिश से कई बांध हुए लबालब, किशानो के चेहरे पर छाई खुशी

Murari Soni

Publish: Aug 11, 2019 12:01 PM | Updated: Aug 11, 2019 12:01 PM

Mungeli

विगत दो-तीन दिनों की बारिश से क्षेत्र के कई तालाब व बांध भर गए।

लोरमी. अंचल में सूखा देखने को मिल रहा था। जुलाई माह पूरा निकलने के बाद सावन मास में भी कम बारिश देखने को मिल रही थी। इससे किसानों में निराशा बढऩे लगी थी। वहीं विगत दो-तीन दिनों की बारिश से क्षेत्र के कई तालाब व बांध भर गए। वहीं खुडिय़ा जलाशय में भी करीब ७८ प्रतिशत जलभराव हो गया है। इससे किसनों के चेहरे खिल गए हैं और वे अब अच्छी फसल की उम्मीद करने लगे हैं।
गौरतलब है कि आषाढ़ एवं आधा सावन बीत जाने के बाद भी अंचल में बारिश न होने की वजह से सूखे जैसे हालात बनने लगे थे। वहीं किसान बोवाई करने के बाद बारिश नहीं होने से रोपाई का कार्य नहीं कर पा रहे थे। यही नहीं पिछले कई वर्षों के अनुभव के चलते निराशा में किसान अपने खेतो की ओर भी जान छोड़ रहे थे। वहीं सावन के अंतिम सप्ताह में दो-तीन दिन अच्छी बारिश हुई। खेतों में अच्छे से पानी का भराव हो गया। इससे किसानों के चेहरे खिल उठे। किसान जहां अपने खेतों की ओर जाना छोड़ चुके थे, वे खेतों में अपनी फसल की तैयारी को लेकर कार्य करने लगे हैं। किसान अब रोपाई कार्य में लग गये है, इस अच्छी बारिश होने से किसानों के भी अच्छे फसल होने की उम्मीद जग गयी है।
इन बांधों में हुआ इतना जलभराव:लोरमी अंचल सहित आसपास के बांध भीषण गर्मी के वजह से सूख चुके थे। खुडिय़ा बांध कई वर्षों बाद ऐसे सूखने की स्थिति देखने को मिला। वहीं बारिश होने से खुडिय़ा बांध में जलभराव हो गया है। ऐसे में बांध का दृश्य काफी मनोरम लगने लगा है। सावन के आखिरी दिनों में हुई दो-तीन दिन की बारिश ने क्षेत्र के कई बांधों को लबालब कर दिया है। बारिश से खुडिय़ा बांध में 78 प्रतिशत, सांवतपुर बांध में 71 प्रतिशत, अघरिया बरगन बांध में 88 प्रतिशत, लोटन जलाशय में 80 प्रतिशत, परसवारा बांध में 72 प्रतिशत, आमाचुआ में 77 प्रतिशत, कर्रानाला में 70 प्रतिशत, बघर्रा में जलाशय 73 प्रतिशत के आसपास पानी भर गया है।