स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

संगठन के कार्यों पर हुई चर्चा, संजय चुने गए अध्यक्ष

Murari Soni

Publish: Aug 26, 2019 11:28 AM | Updated: Aug 26, 2019 11:28 AM

Mungeli

बैठक: राजपूत क्षत्रिय समाज लोरमी के युवा मोर्चा की कार्यकारिणी गठित

लोरमी. राजपूत क्षत्रिय समाज लोरमी परिक्षेत्र के युवा पदाधिकारियों का तीन वर्ष का कार्यकाल पूर्ण होने के पश्चात राजपूत युवा मोर्चा लोरमी का पुन: गठन किया गया। बीते कार्यकाल को देखते हुए व राजपूत समाज द्वारा क्षेत्र में किये गए सराहनीय कार्यों का अवलोकन करते हुए नवीन कार्यकारिणी का गठन समाज के युवा व वरिष्ठ जनो की सहमति से अध्यक्ष व अन्य पदाधिकारियों सहित सदस्यों का चुनाव किया गया। इस दौरान अध्यक्ष पद पर संजय सिंह को निर्विरोध चुना गया।
वहीं उपाध्यक्ष महावीर सिंह, धर्मेंद्र सिंह व अनिल सिंह, प्रीतम सिंह, कृष्णचंद सिंह व सतीश सिंह बनाए गए। वहीं सचिव गणेश सिंह तथा सहसचिव विजय सिंह, गोपाल सिंह व कमलकांत सिंह चुने गए। इसी तरह कोषाध्यक्ष विनोद सिंह व सहकोषाध्यक्ष राजेश सिंह मनोनीत किए गए। संगठन के संरक्षण मण्डल भूपेंद्र सिंह (फौजी), नरेंद्र सिंह ठेकेदार, अयोध्या सिंह फौजी, वीरू सिंह, मनोज सिंह, पालेश्वर सिंह तथा अन्य मार्गदर्शक व सलाहकार मण्डल में श्याम सिंह, दिनेश सिंह वकील, राकेश सिंह, बिहारी सिंह, कमल सिंह, संजीव सिंह, रोशन सिंह को शामिल किया गया है। इस अवसर पर संयोजक अर्जुन सिंह, अमरदेव सिंह, योगेश सिंह तथा संस्थापक सदस्यों में भूपेंद्र सिंह, सालिक सिंह, रामकुमार सिंह, जितेन्द्र सिंह, मनहरण सिंह व नरोत्तम सिंह प्रमुख रूप से मोजहूद रहे। बीते तीन वर्षों में राजपूत युवा मोर्चा लोरमी के द्वारा अनेक सृजनात्मक व रचनात्मक कार्य किए गए। लोरमी में मुख्य जगह व दो ग्रामों में महाराणा प्रताप की मूर्ति भी स्थापित की गई। ग्राम में नव ऊर्जा संचार के लिए प्रत्येक शनिवार हनुमान चालीसा पाठ व पौधरोपण जैसे कार्यों को बढ़ाने में संगठन की बहुत बड़ी भूमिका रही। वहीं युवा मोर्चा की पहल पर क्षेत्र में 1000 से अधिक लोगों ने रक्तदान किया। राजपूत युवा मोर्चा की टीम लोरमी में सृजनात्मक कार्यों की प्रणेता टीम के रूप में भी जानी जाती है। बैठक की अध्यक्षता सुंदर सिंह राजपूत ने की। इस दौरान राजपूत क्षत्रिय समाज लोरमी अध्यक्ष कपिल सिंह, व्याख्याता श्याम सिंह, छैल सिंह व कमल सिंह आदि मौजूद रहे।