स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

आगर नदी उफान पर, घरों में घुसा पानी, प्रशासन ने किया अलर्ट

Murari Soni

Publish: Sep 09, 2019 11:22 AM | Updated: Sep 09, 2019 11:22 AM

Mungeli

नदी में बढ़ रहा पानी: नगर में पुराने पुल के ऊपर से बह रहा पानी, पुलिस तैनात

मुंगेली. लगातार हो रही बारिश से आगर नदी सालों बाद उफान पर है। शहर के बीच में बने छोटे पुल के ऊपर से पानी बह रहा है। जिला प्रशासन ने नदी के किनारे रहने वाले लोगों को बाढ़ से सतर्क रहने को कहा है। ग्रामीण क्षेत्रों में कोटवार से मुनादी भी करवाई जा रही है। नदी के किनारे बसे घरों में रहने वालों के घरो में पानी घुस चुका है। तिलक वार्ड के अनेक घरों में पानी घुस जाने से करीब 60 लोग फंस गए थे, जिन्हें बचाव दल ने निकाला।
लोरमी-खुडिय़ा क्षेत्र में हो रही लगातार बारिश के कारण करीब 7 साल बाद आगर नदी भारी उफान पर है। आगर नदी लोरमी के पास से निकली है और मुंगेली पहुंचते पहुंचते इसका पाट काफी चौड़ा हो जाता है। शहर के बीचोबीच बहने वाली आगर नदी मुंगेली को दो हिस्सें में बांट देती है। कभी साल भर पानी से भरी रहने वाली यह नदी कुछ सालों से सूखकर नाली सरीखी हो जाती है और लगभग आठ माह सूखे की स्थिति रहती है। चैक डेम बन जाने के कारण कहीं कहीं नालियों का गंदा, कचरा युक्त पानी रुका रहता है। मगर इस साल की बारिश ने कई साल की कसर पूरी कर दी और रविवार की सुबह से आगर नदी में अप्रत्याशित आई बाढ़ के कारण पुराना पुल डूब गया। करीब 90 साल पुराने इस पुल को डूबते बहुतों ने पहली बार देखा है। नदी में पानी काफी तेजी से बढ़ रहा है। अगर कुछ साल पहले तक मुंगेली शहर में आगर नदी पर केवल यही पुल था। मगर यही स्थिति रही तो आशंका है कि नये पुल के ऊपर भी पानी आ जाएगा।
आगर नदी पर चार नये पुल बन जाने के कारण आवागमन की सुविधा हो चुकी है। इसी प्रकार सुभाष वार्ड में नदी किनारे बाड़ी वाले पटेल लोगों की बाड़ी में लगी सब्जियां पानी में डूबकर पूरी तरह से खराब हो जाने से इन लोगों को काफी नुकसान हो गया है। नदी किनारे के मोहल्लों में पानी बहुत अंदर तक घुस आया है। जलस्तर बढ़ा तो सूरीघाट में नदी किनारे सब्जी उगाने वाले 4 किसान परिवार के घर बाढ़ की चपेट में आकर डूब गये। इसके बाद आपदा प्रबंधन की टीम ने मौके पर पहुंचकर अपने अप्रशिक्षित सदस्यों के साथ जैसे तैसे करके इनको बचाया। शाम 5 बजे तक आगर नदी पर पानी का स्तर उफान पर ही लग रहा था। वहीं हालात और बिगडऩे की आशंका गहरा रही है। नदी के दोनों किनारों में जिला प्रशासन ने पुलिस बल तैनात कर दिया है। शहर के नदी किनारे रहने वाले लोगों को बाढ़ से सतर्क रहने को कहा गया है।
लोरमी में मनियारी नदी उफान पर, वनांचल के 30 ग्रामों से संपर्क टूटा
लोरमी. बारिश से नदी नाले उफान पर आ गये हैं। मनियारी नदी भी उफान पर है। वहीं नदी किनारे बसे लोगों के घरों में पानी घुस गया है। वनांचल क्षेत्र के लगभग 20 से 25 गांवों से भी संपर्क टूट गया। वहीं नदी के किनारे बसे लोगों के घर को प्रशासन के द्वारा खाली कराया गया। स्कुल को बनाया गया बाढ़ आपदा शिविर बनाया गया है। वहीं पुलिस द्वारा लोगों को नदी में जाने मना किया गया। सुरक्षा को लेकर सिपाही तैनात किये गए हैं। वहीं प्रशासन ने हाई अलर्ट जारी कर किया है। राजस्व के अधिकारीयों को अपने क्षेत्र में रहने के निर्देश दिये हैं। कारीड़ोगरी के पुल के ऊपर से पानी बह रहा है। इससे वनांचल के 20 से 25 ग्रामों से संपर्क टूट गया है। बताया जाता है कि खुडिय़ा बांध वेस्टवियर से 3 फिट ऊपर पानी चल रहा है। वहीं प्रशासन लोगों को अलर्ट करते हुए स्वयं भी अलर्ट पर है।