स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

राज्य में नए कॉलेजों को लेकर फंसा पेंच

Rohit Kumar Tiwari

Publish: Aug 18, 2019 12:12 PM | Updated: Aug 18, 2019 12:12 PM

Mumbai

  • कॉलेजों की नई योजना को नहीं मिली मंजूरी
  • छात्र संघों के अलावा प्रोफेसरों के संगठन आक्रामक
  • यूनियनों ने खटखटाया शिक्षा मंत्रियों का दरवाजा

मुंबई. राज्य सरकार की ओर से हाल ही में राज्य के विश्वविद्यालयों के नए कॉलेजों की घोषणा की गई थी। घोषणा ने भव्य योजना को भी मंजूरी दी। हालांकि यह मान्यता अब विवादों के घेरे में आ गई है और चौंकाने वाली जानकारी यह सामने आई है कि विश्वविद्यालय में नए कॉलेजों की नई योजना को मंजूरी नहीं मिली है। इसके चलते सीनेट की मंजूरी के बिना नए कॉलेजों की मंजूरी ने विवाद की संभावना पैदा की है। वहीं इस बात की सुगबुगाहट तेज है कि उच्च और तकनीकी शिक्षा विभाग शिक्षा सम्राटों को खुश करने के लिए यह निर्णय लिया गया है, जिसकी अब आलोचना की जा रही है। वहीं छात्र संघों के अलावा प्रोफेसरों के संगठन भी इस फैसले के खिलाफ आक्रामक हो गए हैं और यूनियनों ने उच्च और तकनीकी शिक्षा मंत्रियों का दरवाजा खटखटाने का फैसला किया है।

चर्चा क्व बाद वापस जाता है प्रस्ताव...
राज्य के विभिन्न विश्वविद्यालयों द्वारा राज्य सरकार की उच्च और तकनीकी शिक्षा के विभिन्न विभागों के लिए एक नया कॉलेज शुरू करने की भव्य योजना प्रस्तुत की गई थी। उच्च और तकनीकी शिक्षा विभाग के लिए प्रस्तुत भव्य योजना विश्वविद्यालय सीनेट में प्रस्तुत की गई है। सीनेट सदस्यों ने इस विषय पर आपत्ति या सुझाव दिया है। इसके अलावा क्या वास्तव में प्रस्तावित क्षेत्र में एक कॉलेज की आवश्यकता है? सीनेट सदस्यों की ओर से जांच की जाती है कि संबंधित कॉलेज में आवश्यक सुविधाएं हैं या नहीं। इसके बाद सीनेट के बीच चर्चा होती है। फिर पूरे प्रस्ताव राज्य सरकार को वापस भेज दिया जाता है।

व्यापक रूपरेखा को मंजूरी...
लेकिन इस समय सारी प्रक्रिया को दरकिनार कर दिया गया है। सीनेट द्वारा अनुमोदित योजना से अनभिज्ञ तथ्य यह सामने आया है। ड्राफ्ट के बारे में सीनेट को कोई जानकारी नहीं दी गई थी, न ही सीनेट में इस पर चर्चा की गई थी। इसलिए, आगामी चुनावों के मद्देनजर सरकार वर्तमान में चर्चा कर रही है कि क्या सरकार ने राजनीतिक हित के लिए व्यापक रूपरेखा को मंजूरी दी है।

...ताकि हो सके शिकायत
हम उच्च और तकनीकी शिक्षा मंत्री विनोद तावड़े और राज्य मंत्री रवींद्र वायकर से मिलने जा रहे हैं, ताकि वे सीनेट को बड़े पैमाने पर मसौदा प्रस्तुत न करने की शिकायत करें।
- प्रदीप सावंत, सीनेट सदस्य, युवा सेना