स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

टैक्सी के ऊपर  लाल और हरी बत्ती

Arun lal Yadav

Publish: Dec 13, 2019 20:03 PM | Updated: Dec 13, 2019 20:03 PM

Mumbai

tr

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मुंबई. राज्य सरकार ने मुंबई की सड़कों पर दौड़ने वाली टैक्सियों पर लाल और हरी बत्ती लगाने का आदेश जारी किया है। इससे आने वाले दिनों में यात्रियों को टैक्सी दूर से देखने पर ही पता चल जाएगा कि टैक्सी खाली है या टैक्सी में पैसेंजर बैठा हुआ है। टैक्सी के ऊपर लाल बत्ती का मतलब टेक्सी भरी है और हरी बत्ती का मतलब टेक्सी खाली है। टैक्सी के ऊपर लाल बत्ती का मतलब टेक्सी भरी है और हरी बत्ती का मतलब टेक्सी खाली है परिवहन आयुक्त शेखर चेन्ने ने पत्रिका को बताया कि राज्य सरकार ने टैक्सियों पर बत्ती लगाने की गाइड लाइन जारी कर दी है। आने वाले एक महीने में हम टैक्सियों के ऊपर बत्तियां लगाने का कार्य करना शुरू कर देंगे।
टैक्सी यूनियन के अध्यक्ष एंटोनी लॉरेंस क्वाड्रोस बताते हैं कई साल पहले मोरे साहब परिवहन आयुक्त थे, उन्होंने इस योजना का खाका तैयार किया था। कुछ कारणों के चलतेे इस योजना पर अमल नही हो पाया था। क्वाड्रोस ने कहा कि यह लोगों और टैक्सी चालकों दोनों के लिए बेहतर योजना है।
गौरतलब है कि मुंबई में टैक्सी चालकों और यात्रियों के बीच आए दिनों कहीं जाने के लिए झगड़े होते हैं। यात्रियों की शिकायत होती है कि टैक्सी चालक नजदीक के यात्रियों अपने मनमाने ढंग से ले जाते हैं। कई बार यात्रियों की भी गलती होती है। परिवहन विभाग चलाकों के खिलाफ कार्यवाई करता है। इन परेशानियों से बचने के लिए यह योजना शुरू की गई है।
पहले काली-पीली टैक्सी के बोनट पर साधारण मीटर लगे होते थे। मीटर अप व डाउन रहते पर यात्रियों को आसानी से पता चल जाता था कि टैक्सी खाली है या भारी है। लेकिन अब टैक्सी में इलेक्ट्रॉनिक मीटर अंदर लगाए जाते हैं, इससे यात्रियों को पता नहीं चलता कि टैक्सी खाली है या भरी। यात्रियों की इन्हीं परेशानियों को समझते हुए अब परिवहन विभाग ने टैक्सी के टॉप पर लाल और हरी बत्ती लगाने का निर्णय लिया है। क्वाड्रोस कहते हैं कि हम इस योजना का स्वागत करते हैं। हम सिर्फ इतना चाहते हैं कि बत्ती लगाने का खर्च पांच सौ से ज्यादा न हो, जिससे चालकों पर अतिरिक्त दबाव न पड़े।
इस योजना को शुरू करने से पहले परिवहन विभाग कुछ बातों पर विचार कर रहा है। वह देख रहा है कि बत्ती की रोशनी कितनी होनी चाहिए? बत्ती किस प्रकार की होनी चाहिए? इसे लेकर इस तरह की बत्ती बनाने वाली कंपनियों के साथ बैठक होगी। शेखर चेन्न ने पत्रिका को बताया कि अभी हम इसके तकनीकी और दूसरे पहलुओं पर काम कर रहे हैं। आने वाले माह से नई टैक्सियों में बत्तियां लगाना शुरू कर देंगे। नई गाड़ियों में बत्तियां लगने के बाद जो पुरानी गाडिय़ां फिटनेस के लिए आएंगी तब उन पर बत्तियां लगाई जाएंगी

[MORE_ADVERTISE1]