स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अरे ये क्या: फिर चेंज होंगे पाठ्यक्रम, आखिर क्यों हुआ ऐसा?

Rohit Kumar Tiwari

Publish: Sep 15, 2019 21:06 PM | Updated: Sep 15, 2019 21:06 PM

Mumbai

अब तीसरे और 12वीं के पाठ्यक्रम ( Syllabus ) में होगा बदलाव, जिसमें सोशल मीडिया ( Social Media ) समेत अन्य विषयों का समावेश होगा, छात्रों को आधुनिक शिक्षा ( Modern Education ) प्रदान कराने का लक्ष्य, राज्य पाठ्यपुस्तक बोर्ड ( State textbook board ) का फैसला

मुंबई. अभी हाल ही में दूसरे और 11वें पाठ्यक्रमों को इस वर्ष शैक्षणिक वर्ष के दौरान संशोधित किया गया था। इसके बाद अब राज्य पाठ्यपुस्तक बोर्ड ने आगामी शैक्षणिक वर्ष में तीसरे और 12वें पाठ्यक्रम के पाठ्यक्रम को बदलने का फैसला किया है। 12वीं के समाजशास्त्र और अन्य विषयों के सिलेबस में बदलाव किया जाएगा। 12वीं पाठ्यक्रम में स्त्री-पुरुष समानता, सोशल मीडिया प्रबंधन और अन्य अत्याधुनिक विषयों को शामिल किया जाएगा। बदलते समय के दौरान छात्रों को आधुनिक शिक्षा प्रदान करने के लिए विशेषज्ञों की एक समिति नियुक्त की थी। इस समिति ने पाठ्यक्रम परिवर्तन के क्षेत्र में अन्य विशेषज्ञों से उनकी सिफारिशें मांगी थीं।

Graduation के लिए Mumbai University ने शुरू किए सेल्फ फाइनेंस कोर्सेज

अरे ये क्या: फिर चेंज होंगे पाठ्यक्रम, आखिर क्यों हुआ ऐसा?

अन्य महत्वपूर्ण विषय शामिल...
विदित हो कि शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञों की ओर से अच्छी तरह से प्राप्त किया गया था। समिति ने सिफारिशों का अध्ययन करके पाठ्यक्रम में बदलाव की सिफारिश की थी। इसी के मद्देनजर राज्य पाठ्यपुस्तक बोर्ड ने 12वीं के पाठ्यक्रम को बदलने का फैसला किया है। 12वीं के पाठ्यक्रम में आधुनिक मुद्दों, लैंगिक समानता, शिक्षा, सोशल मीडिया प्रबंधन और अन्य महत्वपूर्ण विषय शामिल हैं।

समय में पाठ्यक्रम पूरा करने की जद्दोजहद में जुटे छात्र और टीचर

अरे ये क्या: फिर चेंज होंगे पाठ्यक्रम, आखिर क्यों हुआ ऐसा?

काफी कारगर आबित होगा फैसला...
बोर्ड ने कॉलेज में 12वीं के छात्रों को शिक्षा प्रदान करने का निर्णय इसलिए लिया है, ताकि छात्रों को भविष्य की गंभीर समस्याओं जैसे नई पीढ़ी, पर्यावरण संरक्षण, अपशिष्ट प्रबंधन को हल करने का बेहतर ज्ञान मिल सके। छात्रों को तीसरी कक्षा के पाठ्यक्रम में आधुनिक भारत और पर्यावरण के अनुकूल पद्धति के बारे में भी बताया जाएगा। दुनिया तेजी से बदल रही है। इसलिए राज्य बोर्ड में पढ़ने वाले छात्रों को अन्य बोर्ड के छात्रों से बेहतर प्रदर्शन करना चाहिए। वहीं माता-पिता ने यह विचार व्यक्त किया कि बलभारती की ओर से पाठ्यक्रम में सुधार पर विचार करने के लिए उपयुक्त था, जो उच्च स्तरीय परीक्षा में काफी कारगर साबित होगा।

मुंबई-पुणे के बीच दौड़ेगी हाइपरलूप ट्रेन, तीन घंटे का सफर 20 मिनट में होगा तय