स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कसाब की बैरक में रखे जाएंगे घोटालेबाज माल्या और मोदी

Nagmani Pandey

Publish: Dec 06, 2019 00:27 AM | Updated: Dec 06, 2019 00:27 AM

Mumbai

करोड़ों का घोटाला कर भागे अपराधियों के लिए ऑर्थर रोड जेल में चल रही तैयारी

फिलहाल ब्रिटेन में है शराब कारोबारी माल्या और डायमंड कारोबारी मोदी।

दोनों को भारत लाने के लिए चल रही प्रत्यपर्ण प्रक्रिया
पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मुंबई. करोड़ों रुपए का घोटाला कर भारत से फरार घोटालेबाजों की मेजबानी के लिए आर्थिक राजधानी के चिंचपोकली इलाके में स्थित ऑर्थर रोड जेल में खास तैयारी चल रही है। जेल की बैरक नंबर 12 को खाली कराया जा रहा है, जिसे कसाब बिल्डिंग के नाम से जाना जाता है। जेल की इस बैरक में शीना बोरा की हत्या के आरोपी पीटर मुखर्जी और पीएमसी बैंक घोटाले के आरोपी राकेश वधावन को रखा गया था। इसकी जगह मुखर्जी और वधावन को अब जेल के हॉस्पिटल वार्ड मेंं शिफ्ट कर दिया गया है।

अधिकारियों का कहना है कि भगोड़े आर्थिक अपराधियों को भारत लाने के बाद ऑर्थर रोड जेल की बैरक नंबर 12 में रखा जाएगा। इसीलिए यह बैरक खाली कराई गई है। शीना बोरा हत्याकांड के आरोपी संजीव खन्ना को भी ऑर्थर रोड जेल की कुख्यात अंडा सेल में रखा गया है। उल्लेखनीय है कि खन्ना शीना की मां इंद्राणी मुखर्जी का पूर्व पति है। बेटी की हत्या के मामले में इंद्राणी में भायखला जेल में कैद है।

जहां तक ऑर्थर रोड जेल के हॉस्पिटल वार्ड का सवाल है तो यह दो मंजिला इमारत है, जिसमें 20 बेड हैं। इस बिल्डिंग में चोरी, डकैती, मारपीट, धोखाधड़ी आदि जैसे मामलों में गिरफ्तार 100 आरोपी रखे जाते हैं। हॉस्पिटल में प्राथमिक उपचार से जुड़ी सुविधाएं उपलब्ध हैं।

बैरक नंबर 12 भी दो मंजिला स्ट्रक्चर है। इसी बैरक के एक कमरे में 26/11 आतंकी हमले के दौरान गिरफ्तार एक मात्र पाकिस्तानी आतंकी अजमल कसाब को रखा गया था, जिसे फांसी दी जा चुकी है। 26/11 हमले के हैंडलर अबू जुंदाल को भी इसी बिल्डिंग में रखा गया है। साथ ही एनआईए द्वारा गिरफ्तार एक और आतंकी इसी बैरक में बंद है। जिस कमरे में कसाब को रखा गया था वह खाली है।ऑर्थर रोड जेल की बैरक नंबर 12 के ग्राउंड फ्लोर पर 300 वर्ग फुट के दो कमरे हैं, जिनमें शौचायल की सुविधा है। इनमें न सिर्फ पंखे लगे हैं बल्कि दूसरी सुविधाएं भी हैं। स्टूडियो अपार्टमेंट जैसे इन कमरों का फोटो लंदन की अदालत में भी जमा किया गया है। प्रत्यर्पण के बाद माल्या को इन्हीं दो कमरों में एक में रखा जाएगा। उल्लेखनीय है कि माल्या के प्रत्यर्पण की प्रक्रिया चल रही है। ब्रिटेन की अदालत में माल्या ने यह कहते हुए प्रत्यपर्ण का विरोध किया था कि भारत की जेलों में स्तरीय सुविधाएं नहीं हैं।


नीरव भगोड़ा घोषित

ईडी की अपील पर विशेष अदालत ने पंजाब नेशनल बैंक (पीएमबी) से जुड़े 14 हजार करोड़ रुपए के घोटाले के आरोपी नीरव मोदी को भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित कर दिया है। एफईओ कानून के तहत सबसे पहले शराब कारोबारी विजय माल्या को भगोड़ा घोषित किया था। नीरव दूसरा कारोबारी है जिसे इस कानून के तहत भगोड़ा घोषित किया गया है। ईडी और भगोड़े कारोबारी के वकीलों की दलीलें सुनने के बाद विशेष पीएमएल कोर्ट के जज वीसी बर्दे नीरव को भगोड़ा घोषित किया। उल्लेखनीय है कि पीएनबी से जुड़े हजारों करोड़ रुपए के घोटाले में नीरव के अलावा उसका मामा मेहुल चोकसी मुख्य आरोपी हैं। नीरव ब्रिटेन में रह रहा है जबकि चोकसी ने एंटीगुआ बरमुडा की नागरिकता ले रखी है। ब्रिटेन से नीरव को भारत लाने के लिए प्रत्यपर्ण प्रक्रिया चल रही है।

[MORE_ADVERTISE1]