स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Maharastra Voting : महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव : दोनों हाथ नहीं, पर वोट देने से नहीं चूकी सुरेखा

Binod Pandey

Publish: Oct 21, 2019 18:30 PM | Updated: Oct 21, 2019 18:30 PM

Mumbai

  • -युवाओं को दी वोट देने की प्रेरणा, सांगली में 106 साल की महिला ने दिया वोट
  • -सुरेखा खुडे नाम की महिला ने सुबह सात बजे ही मतदान करने पहुंची। यहां मौजूद कर्मचारियों ने उनका सहयोग किया। सुरेखा खुडे ने बताया कि यह लोकतंत्र का पर्व है, जिसमें सभी नागरिकों को उत्साहपूर्वक मतदान में भाग लेना चाहिए।

मुंबई. महाराष्ट्र विधानसभा के लिए हो रहे चुनाव में सोमवार को सुबह से ही नागरिकों ने मतदान केन्द्रों कतार लगाकर वोट दिया। पुणे के पर्वती विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत सुरेखा खुडे ने दोनों हाथ नहीं होने के बावजूद सुबह बूथ पर जाकर अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर गर्व की अनुभूति की। सुरेखा को मतदान कराने के लिए पूरे तंत्र ने भरपूर सहयोग किया। सुरेखा ने सभी के प्रति आभार जताया।


चुनाव के दौरान सरकार की ओर से घोषित अवकाश मतदान के लिए होता है। लोकतंत्र के पर्व में जनता की आहुति जरूरी है। इसके बावजूद कई बार लोग मतदान के दिन का उपयोग नहीं कर पाते हैं। इसके बजाय ऐसे लोग भी होते हैं, जो तमाम तरह के अवरोधों के बावजूद लोकतंत्र के पर्व में आहुति डालते हैं। सुरेखा खुडे नाम की महिला ने सुबह सात बजे ही मतदान करने पहुंची। यहां मौजूद कर्मचारियों ने उनका सहयोग किया। सुरेखा खुडे ने बताया कि यह लोकतंत्र का पर्व है, जिसमें सभी नागरिकों को उत्साहपूर्वक मतदान में भाग लेना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि कुछ लोगों में अभी तक गंभीरता नहंी आई है, इससे सही जनप्रतिनिधि चुनने में दिक्कतें आती हैं। युवा पीढ़ी को आगे आकर मतदान करने के साथ ही उन्हें लोगों को जगारूक करने में भूमिका अदा करना चाहिए। सुरेखा ने पत्रिका को बताया कि हर साल वह सबसे पहले मतदान करने वालों में शामिल होती हैं।

सांगली में 106 साल की बुजुर्ग महिला ने किया मतदान
राज्य के सांगली जिले में सबसे उम्रदराज महिला ने मतदान किया। जिले के इस्लामपुर विधानसभा क्षेत्र में वोट डालने वाली महिला का नाम जरीना शेख है, जिनकी उम्र 106 साल है। खास यह कि मतदान को लेकर जरीना हमेशा सजग रही हैं। हर चुनाव में वह अपने मताधिकार का इस्तेमाल करती हैं। 106 साल की उम्र में जरीना की मतदान के प्रति जागरुकता से युवाओं को सीख लेनी चाहिए।