स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

महाराष्ट्र: विभाग बंटवारे का फॉर्मूला तय, कैबिनेट विस्तार का अभी नहीं निकला मुहूर्त

Basant Mourya

Publish: Dec 08, 2019 00:35 AM | Updated: Dec 08, 2019 00:35 AM

Mumbai

  • शिवसेना को 16, एनसीपी को 15 और कांग्रेस को मिलेंगे 12 विभाग
  • सिंचाई घोटाले में क्लीन चिट मिलने के बाद अजीत पवार बनाए जा सकते हैं उप-मुख्यमंत्री

 

मुंबई. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे नीत महाराष्ट्र विकास आघाडी सरकार में शामिल शिवसेना, कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के बीच विभागों के बंटवारे पर सहमति बन गई है। उद्धव की कैबिनेट में शिवसेना के 16, एनसीपी के 15 और कांग्रेस के 12 मंत्री शामिल होंगे। सिंचाई घोटाले में क्लीन चिट मिलने के बाद एनसीपी नेता अजीत पवार को उप-मुख्यमंत्री बनाया जा सकता है। साथ ही मुख्यमंत्री उद्धव के साथ शपथ ग्रहण करने वाले मंत्रियों को भी जल्दी ही विभागों का आवंटन किया जा सकता है। कैबिनेट विस्तार और विभागों के बंटवारे को लेकर मुख्यमंत्री ठाकरे और एनसीपी मुखिया शरद पवार के बीच शनिवार को डेढ़ घंटे चर्चा हुई। मिली जानकारी अनुसार विभाग बंटवारे पर सरकार में शामिल तीनों दलों के बीच सहमति बन गई है, लेकिन कैबिनेट विस्तार का मुहूर्त अभी नहीं निकला है।

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री के साथ छह मंत्रियों ने 28 नवंबर को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने 28 नवंबर को शिवाजी पार्क में पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई थी। इनमें शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी को दो-दो मंत्री शामिल हैं। शपथ ग्रहण के 10 दिन बाद भी यह मंत्री बिना विभाग के हैं। हालांकि इन्हें दफ्तर और बंगला मिल चुका है। मुख्य विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने इस पर तंज भी कसा है। भाजपा ने कटाक्ष किया कि जो सरकार अपने मंत्रियों को विभागों का बंटवारा तक नहीं कर पा रही, वह भला जनता और राज्य के भला कैसे करेगी।

नेहरू सेंटर में हुई बैठक
सूत्रों के मुताबिक एनसीपी मुखिया पवार के साथ मुख्यमंत्री उद्धव की बैठक वर्ली के नेहरू सेंटर में हुई। दोनों नेताओं के बीच विभागों के बंटवारे और मंत्रिमंडल विस्तार पर डेढ़ घंटे तक चर्चा हुई। इस बैठक में शिवसेना की ओर से एकनाथ शिंदे और सुभाष देसाई तो एनसीपी की ओर से अजीत पवार और जयंत पाटील शामिल हुए। पवार के साथ मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री मंत्रालय पहुंचे, जहां तीनों दलों के नेताओं के साथ उन्होंने लंबी बैठक की। खबर लिखे जाने तक यह बैठक चल रही थी।

विधायकों का दबाव
पहले उम्मीद जताई जा रही थी कि विधान मंडल के शीतकालीन अधिवेशन के बाद महा विकास आघाडी सरकार का मंत्रिमंडल विस्तार होगा। लेकिन, अब ऐसा माना जा रहा कि शपथ ले चुके मंत्रियों को जल्दी ही उनके विभागों का आवंटन किया जा सकता है। विधान मंडल के शीतकालीन अधिवेशन के बाद मंत्रिमंडल विस्तार के आसार हैं। सूत्रों के मुताबिक मंत्रिमंडल विस्तार के लिए एनसीपी और कांग्रेस विधायकों का ज्यादा दबाव है।

यह मंत्री ले चुके हैं शपथ
28 नवंबर को शिवाजी पार्क में मुख्यमंत्री सहित छह मंत्रियों ने पद-गोपनीयता की शपथ ली थी। इनमें एनसीपी के जयंत पाटील व छगन भुजबल, शिवसेना के एकनाथ शिंदे व सुभाष देसाई और कांग्रेस के बालासाहेब थोरात व नितिन राउत शामिल हैं।

[MORE_ADVERTISE1]